गंगोलीहाट : शहीद पवन सिंह सुगड़ा को श्रद्धांजलि देने उमड़ा जनसैलाब

जम्मू कश्मीर में शहीद हुए जवान पवन सिंह सुगड़ा का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव सुगड़ी में सायं सात बजे सेना के वाहन ने गंगोलीहाट नगर में पहुंचा. जहां हजारों की संख्या में लोगों ने नम आंखों से शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की. वहीं जिला मुख्यालय से आए सैनिकों की टुकड़ी ने जवान को श्रद्धांजलि अर्पित की. लोगों ने फूल चढ़ाकर अपनी संवेदनाएं प्रकट की. सूत्रों के अनुसार दोपहर को अंतिम संस्कार होगा.

बता दें कि मंगलवार को जम्मू से शहीद का पार्थिव शरीर सेना के विमान से बरेली पहुंच गया था. बुधवार को शहीद का पार्थिव शरीर हेलीकॉप्टर से पिथौरागढ़ लाया जाना था लेकिन मौसम खराब होने की वजह से बरेली में ही रखा गया और गुरुवार की सुबह बरेली से सेना के वाहन से शहीद का पार्थिव शरीर पिथौरागढ़ भेजा गया.

गौरतलब है कि गंगोलीहाट तहसील मुख्यालय से लगभग 26 किमी दूर स्थित एक गांव सुगड़ा का लाल पवन सिंह सुगड़ा जम्मू-कश्मीर के पुंछ स्थित कृष्णा घाटी सेक्टर में देश की सरहद की रक्षा करते करते शहीद हो गये थे. उनके शहीद होने की खबर सुनकर गंगा में कोहराम मच हुआ था. पवन के मासूम चेहरा को याद करते हुये हर किसी की आंखें नम है.

वे एक माह पूर्व ही अवकाश पूर्ण करके देश की हिफाजत के लिए जम्मू में तैनात थे. मिलनसार स्वभाव और मृदुलभाषी होने के कारण वे गांव में सभी के चहेते थे. उनकी इन यादों से गांव के लोग अपने आप को फफक रोने से नही रोक पा रहे है.

करीब तीन वर्ष पूर्व पवन सिंह सुगड़ा देश की हिफाजत के लिए फौज में सिपाही के पद पर भर्ती हुए थे. उनके पिता दान सिंह सुगड़ा भी पूर्व सैनिक हैं और वे गांव में ही रहते हैं. परिवार में दो भाई और बहनें है पवन कुमार परिवार में तीसरे नंबर के है. जबकि बड़े भाई और बड़ी बहन की शादी हो चुकी हैं. बड़ा भाई धीरज सिंह सुगड़ा उत्तराखंड पुलिस में है.