CIC ने सरकार से पूछा, ताजमहल मकबरा है या शिव मंदिर

सेंट्रल इंफॉर्मेशन कमीशन (सीआईसी) ने सरकार से सवाल पूछा है कि ताजमहल मकबरा है या शिव मंदिर? यह मुद्दा आरटीआई में पूछे गए सवाल के बाद उठा. इस आरटीआई के तहत एक शख्स ने ताजमहल का इतिहास जानने के लिए सवाल पूछा. मामले को लेकर सीआईसी ने कल्चर मिनिस्ट्री से राय मांगी है.

ताज के इतिहास को लेकर कई तरह के दावे किए जा रहे हैं. इन दावों की सच्चाई जानने के लिए बीकेएसआर अय्यंगर ने एएसआई के पास एक आरटीआई फाइल की. इसमें पूछा गया कि क्या आगरा में बना स्मारक ताजमहल है या तेजो महालय. कई लोग ये दावा करते हैं कि इसका असली नाम तेजो महालय है. इसे शाहजहां ने नहीं बनवाया बल्कि एक राजपूत राजा मान सिंह ने मुगल शासक को तोहफे में दिया था.

सीआईसी कमिश्नर श्रीधर आचार्यालु के ऑर्डर में कहा गया है कि कल्चर मिनिस्ट्री ताजमहल के इतिहास के बारे में चले आ रहे विवादों पर लगाम लगाए. साथ ही साफ करे कि क्या दुनिया के सात अजूबों में शामिल संगमरमर से बनी यह इमारत शाहजहां द्वारा बनवाया मकबरा है. या एक राजपूत राजा की तरफ से मुगल शासक को तोहफे में दिया गया कोई शिवालय है.