चोटी कटने की घटनाओं से लोगों में दहशत को माहौल

नानकमत्ता, जिले भर में चल रहें चोटी काटने की घटनाओं से लोगो में दिन व दिन दहशत का माहौल बनता जा रहा है.अभी तक रात के अधेरे में ही इन घटनाओं का होना सामने आ रहा था लेकिन अब दिन के उजाले में भी इस तरह की घटनाओं के होने से लोगों में दहशत का महौल व्याप्त हैं.गौरतलब है कि इससे पूर्व भी वर्ष 2009-10 में इसी तरह की एक घटना से जिले भर में कुछ समय तक दहशत का माहौल बना रहा था. लोगों में दहशत फैलाने को मुंहनोचवा नामक ऐसी अफवाह फैली की लोगों ने रात को घरों से निकलना बन्द कर दिया.रात को शौच के लिए उठने वाले कई लोग इस भ्रम का शिकर भी हो गये.

बता दें कि नगर के गुरूद्वारा मार्ग पर एक परिवार भी इस भ्रम का शिकार हो गया.हल्ला होने पर भारी भीड़ घर में जमा हो गई थी परिवार के लोग डर से कांप रहे थे.सूचना मिलने पर पुलिस ने भी मौके पर जानकारी ली लेकिन कुछ भी तथ्य सामने नहीं आये.एकाएक घटना के बाद नगर के ग्राम बंगाली कालौनी में एक व्यक्ति शौच कराने को गया जब लौटकर घर के नल पर आया तो गिर पड़ा परिवार के लोगों ने रात्रि में उसे नगर के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में भी भर्ती करा दिया, जिसके हाथ पर खरोच के निशान थे.अफवाह के कारण लोगों में उस समय खासा दहशत का माहौल व्याप्त रहा था.

लोग अपने घरों में ही जागकर बारी बारी से गश्त करने लगे थे, लेकिन कुछ समय के बाद मुंहनोचवा नामक इस घटना से लोगों को राहत मिल गई थी.जिले भर में चल रही बाल काटने की घटना धीरे धीरे सितारगंज तथा इसके आपास के गांव के साथ ही खटीमा व उसके आसपास में ही होती सुनीं जा रही हैं.परन्तु नगर में अभी तक इस तरह की कोई वारदात घटना सामने नहीं आई है.मजे की बात यह है कि लोग इस बाल काटने की घटना से इतने भयभीत हो गये है, खासकर महिलाएं इससे बचाव व सुरक्षा को महिलाओं ने अपने अपने घरों में नीम के पत्ते तोड़कर रखना शुरू कर दिया है.हालांकि जिला प्रशासन का इस ओर पूरी तरह से ध्यान केन्द्रित है लेकिन अभी तक कोई तथ्य सामने नहीं आया है.