स्मृति ईरानी ने भारत छोड़ो आंदोलन पर सोनिया गांधी के भाषण पर साधा निशाना

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशाना साधा है. केंद्रीय मंत्री ने भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर लोकसभा में सोनिया गांधी की ओर से दिए गए भाषण को लेकर पलटवार किया है. स्मृति ईरानी ने अपने फेसबुक पोस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण को देश हित वाला बताया वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के भाषण को परिवार के हित वाला करार दिया.

सोनिया गांधी का भाषण चुनाव कैंपेन जैसा: स्मृति ईरानी केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने फेसबुक पर लिखी पोस्ट में कहा कि भारत छोड़ो आंदोलन जैसी देशव्यापी ऐतिहासिक घटना के बारे में हमें निष्पक्ष रहकर अपनी बात रखनी चाहिए थी, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का भाषण 2014 में मिली सत्ता की हार के अफसोस मनाने जैसा नजर आया. स्मृति ईरानी ने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि सोनिया गांधी अपने पूरे भाषण में सिर्फ जवाहर लाल नेहरू के योगदान की बात करती रहीं, क्योंकि वो उनके परिवार से जुड़ी हुई हैं. उन्होंने सुभाषचंद्र बोस और सरदार वल्लभभाई पटेल का नाम नहीं लिया. सोनिया गांधी का भाषण किसी चुनावी कैंपेन के जैसा था.

अपने फेसबुक पोस्ट में केंद्रीय मंत्री स्मृति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के भाषण में एक प्रगतिशीलता नजर आई. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ में महात्मा गांधी की ओर से ली गई ‘करो या मरो’ की शपथ को अपनाने के लिए कहा है. प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान कहा कि ‘करेंगे और करके रहेंगे’ का ऐलान किया. प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में सरदार वल्लभ भाई पटेल और सुभाष चंद्र बोस जैसे स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान की चर्चा की साथ ही महिलाओं के योगदान को भी याद किया. उन्होंने जोर दिया कि हमें महिलाओं को सशक्त बनाने का प्रयास करना चाहिए. प्रधानमंत्री मोदी बीते हुए दिनों की ही बात नहीं की साथ ही आने वाले भविष्य की भी बात अपने भाषण में की. आपको बता दें कि बुधवार को भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ पर संसद में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इशारों-इशारों में आरएसएस पर निशाना साधा था.