मुसीबत बनी बारिश : पौड़ी में कहीं दीवार ढही, कहीं गदेरे में बहे लोग | कुल पांच की मौत

लगातार जारी भारी बारिश के कारण पौड़ी जिले में हुए अलग-अलग हादसों में शुक्रवार को तीन महिलाओं और दो किशोरवय बच्चों सहित पांच व्यक्तियों की मौत हो गई, जबकि बारिश का पानी कई घरों के अंदर घुस गया.

उधर, पूरे राज्य में ज्यादातर स्थानों पर बारिश होती रही और मौसम खराब रहा. खराब मौसम के कारण मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी सोमेश्वर और अल्मोड़ा के कार्यक्रमों में सम्मिलित नहीं हो पाए और उन्होंने वहां मौजूद जनसभा को फोन से संबोधित किया.

पौड़ी के जिलाधिकारी सुशील कुमार ने बताया कि घर में पानी घुसने के बाद घबराहट में घर से भागते समय एक 37 वर्षीय महिला और उसका 14 वर्षीय भतीजा पानी की तेज धार में बह गए. उन्होंने बताया कि महिला का शव घर से करीब 100 मीटर दूर मिट्टी में पडा मिला.

यहीं से कुछ दूरी पर ​मानपुर में हुई एक अन्य घटना में सुबह छह बजे के करीब एक घर की दीवार टूट गयी और उसकी चपेट में आकर एक 43 वर्षीय महिला की मौत हो गई.

जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में हुई एक अन्य घटना में बारिश के पानी के साथ खेतों का मलबा एक घर में घुस गया, जिससे वहां मौजूद एक 15 वर्षीय लड़की का दम घुट गया और उसकी मृत्यु हो गई.

उन्होंने बताया कि पांचवीं घटना कौरिया कैंप क्षेत्र में हुई, जहां घर की चाहरदीवारी गिर जाने से उसमें दबकर एक 57 वर्षीय महिला की मौत हो गई.

जिलाधिकारी ने बताया कि मारे गए व्यक्तियों के परिजनों को चार लाख रुपये और बारिश में घर गंवाने वाले लोगों को पचास हजार रुपये की सहायता दी जाएगी.

क्षेत्र में गुरुवार शाम बारिश शुरू हुई थी और आधी रात के बाद भारी बारिश होने लगी जो तड़के तक जारी रही. जिलाधिकारी की देखरेख में राहत और बचाव कार्य चलाया गया. उन्होंने बताया कि वर्षा से प्रभावित लोगों के लिए कोटद्वार के इंटर कॉलेज में एक राहत शिविर बनाया गया है.

इस बीच, यहां स्थित मौसम केंद्र ने अगले 24 घंटों के दौरान देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, चमोली, नैनीताल, उधमसिंह नगर और पिथौरागढ़ जिलों के लिए भारी बारिश का अलर्ट जारी करते हुए ​अधिकारियों को स्थिति पर कड़ी नजर रखने और जनता से सावधानी बरतने को कहा है.