गुजरात में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की कार पर हमला

गुजरात के बनासकांठा जिले के बाढ़ प्रभावित धनेरा में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के दौरे के दौरान शुक्रवार को प्रदर्शनकारी भीड़ ने उन्हें काले झंडे दिखाए और पथराव कर कार की खिड़कियां तोड़ दी. भीड़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में नारे भी लगाए. एक गांव के बाद दूसरे गांव में कई जगहों पर राहुल गांधी को भीड़ के विरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने यात्रा जारी रखने का फैसला किया और कहा, “मैं इस तरह की कायरता से या नरेंद्र मोदी के लिए नारे लगाने वाली भीड़ से डरने वाला नहीं हूं.”

राहुल ने कहा कि डरते वे हैं, जो सत्य नहीं देखना चाहते, न ही समझना चाहते, हम इन सब डरपोक कोशिशों से डरने वाले नहीं हैं.उन्होंने कहा, “आप लोगों का दुख-दर्द सुनने के लिए आए हैं, समझने आए हैं, जितनी मदद हो सके पहुंचाने आए हैं, हम इन लोगों से डरते नहीं हैं.”राहुल उत्तरी गुजरात के बाढ़ प्रभावित इलाके के एक दिन के दौरे पर धनेरा पहुंचे थे. इससे पहले वह राजस्थान गए थे. उन्होंने मंतोरा गांव व आसपास के इलाकों के लोगों से बात की.

इसके बाद वह धनेरा के लाल चौक पहुंचे. उन्होंने अपने खिलाफ प्रदर्शन कर रहे काले झंडे दिखा रहे लोगों से मुलाकात की. ये लोग प्रधानमंत्री के पक्ष में नारे लगा रहे थे.कांग्रेस उपाध्यक्ष को लाल चौक में जनसभा को संबोधित करना था, लेकिन नारेबाजी व विरोध प्रदर्शन के बाद इसे रद्द कर दिया गया. पुलिस को लोगों को तितर-बितर करने के लिए लाठी चलानी पड़ी और राहुल को लाल चौक से जाना पड़ा.यहां तक कि उनकी कार व काफिले पर चलते समय लोगों ने पानी के पाउच फेंके. इसके बाद वह बनासकांठा जिले के बाढ़ प्रभावित गांव में गए. राहुल जब धनेरा हेलीपैड जा रहे थे तो उनकी कार पर पथराव किया गया और कुछ खिड़की के शीशे टूट गए.

बनासकांठा व पाटन जिलों में बाढ़ से 70 सालों में सबसे बदतर स्थिति का सामना करना पड़ रहा है. उत्तरी गुजरात ज्यादातर सूखा प्रभावित क्षेत्र रहा है.बाढ़ से राज्य में 270 लोगों के मरने का अनुमान है और 4.5 लाख लोग प्रभावित हुए हैं.