चीन का दावा: भारत डोकलाम में पीछे हटा, भारत ने नकारा

चीन द्वारा बोले गए झूठ से एक बार फिर पर्दा उठ गया है. भारत ने इस बात से इनकार किया है कि डोकलाम में तैनात सुरक्षाबलों की संख्या में कटौती की गई है. केंद्र सरकार ने कहा है कि चीन द्वारा दी गई जानकारी गलत है और दोनों पक्षों से 350-400 सैनिक डोकलाम में अब भी तैनात हैं. सरकार की ओर से बताया गया कि भारतीय सैनिक जिस जगह पर थे और जितनी तादाद में तैनात थे उसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है.

बता दें कि चीन ने दावा किया था कि भारत ने सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके से जुलाई के अंत तक अपने सैनिकों की संख्या 400 से घटाकर 40 कर दी है. चीनी विदेश मंत्रालय ने 16 जून से शुरू हुये इस गतिरोध के बारे में 15 पन्नों का एक ‘फैक्ट शीट ’ मानचित्रों और दूसरे विवरणों के साथ जारी किया.

इस ‘फैक्ट शीट ’ में इलाके पर चीन के कथित ऐतिहासिक दावे के बारे में बताते हुए कहा गया है, ’16 जून 2017 को चीन की तरफ से डोकलाम इलाके में सड़क बनाई जा रही थी. 18 जून को करीब 270 भारतीय सैनिक हथियार लेकर दो बुलडोजरों के साथ सिक्किम सेक्टर के डोकलाम दर्ररे को पार कर गये और ‘‘चीन की तरफ बन रही सड़क को बाधित करने के लिये उसके क्षेत्र में 100 मीटर से ज्यादा अंदर आ गये, जिससे इलाके में तनाव हो गया था.’’

इसमें दावा किया गया, ‘‘दो बुलडोजरों के अलावा, अतिक्रमण करने वाले भारतीय सीमा सैनिकों की संख्या एक समय 400 से ज्यादा हो गयी थी, उन्होंने तीन तंबू लगा दिये थे और चीनी क्षेत्र में 180 मीटर से ज्यादा अंदर आ गये थे.’’ दस्तावेज में कहा गया, ‘‘जुलाई के अंत तक वहां अब भी करीब 40 भारतीय सीमा सैनिक और एक बुलडोजर अवैध रूप से चीनी क्षेत्र में मौजूद हैं.’’

हालांकि, भारत ने चीन के दावों को खारिज किया. सूत्रों ने साफ शब्दों में कहा कि डोकलाम में पहले की तरह यथास्थिति बनी हुई है.