राज्यसभा से गायब सांसदों को अमित शाह ने लगाई फटकार

नई दिल्ली, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के राज्यसभा सांसदों के सदन में गैर-मौजूद रहने को लेकर सफाई मांगी है. अमित शाह ने सांसदों से कड़ाई से पेश आते हुए उन्हें चेतावनी दी कि वो फिर कभी ऐसा न करें.बीजेपी को राज्यसभा में सोमवार को उस समय किरकिरी का सामना करना पड़ा था, जब विपक्ष ने मनमुताबिक पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के संविधान संशोधन बिल को संशोधन के साथ पारित करा लिया.

बीजेपी से जुड़े सूत्रों के अनुसार अध्यक्ष अमित शाह ने बीजेपी संसदीय दल की बैठक में अनुपस्थित रहने वाले सांसदों को फटकार लगाई है. इसके अलावा, उन्होंने दोनों सदनों के सांसदों को संसदीय प्रक्रिया में हिस्सा लेने की भी नसीहत दी. अनुपस्थित सांसदों को उन्होंने चेतावनी दी है कि वो दोबारा ऐसा न करें.

अमित शाह ने कहा, ‘लोकतंत्र के लिये यह अच्छी बात नहीं है, उन्हें लोगों ने अपना प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना है. इससे गलत संदेश जाता है.’ उन्होंने यह भी कहा कि वो सभी अनुपस्थित सांसदों से बात करेंगे.

मंगलवार को संसद की लाइब्रेरी बिल्डिंग में हुई संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद नहीं थे लेकिन उन्होंने सदन से नदारद रहने वाले सांसदों की सूची मांगी है. राज्यसभा में हुई किरकिरी के बाद सदन के नेता अरुण जेटली ने सांसदों की गैर-मौजूदगी पर सहयोगियों और मंत्रियों से चर्चा भी की थी.सोमवार को राज्यसभा में चर्चा के दौरान बीजेपी सांसदों समेत एनडीए के घटक दलों के कुल 30 सांसद अनुपस्थित थे.

सोमवार को राज्यसभा में पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा दिए जाने पर चर्चा हो रही थी. उसे पारित किया जाना था लेकिन पारित करने के वक्त सदन से बीजेपी के सांसद मौजूद नहीं थे. इसके चलते विपक्ष अपना संशोधन पारित कराने में कामयाब हो गया.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ दिन पहले अपनी पार्टी के सांसदों को सदन की कार्रवाई के दौरान उपस्थिति रहने को लेकर नसीहत दी थी.