हल्द्वानी: खसरा रूबेला टीकाकरण अभियान ने पकड़ा जोर, जाने पूरी बात

आगामी 11 सितम्बर से खसरा रूबेला टीकाकरण का अभियान चलाया जायेगा. जिसमें 9 माह से 15 वर्ष तक के सभी बच्चो का निशुल्क टीकाकरण किया जायेगा. खसरा रूबेला टीकाकरण अभियान की तैयारियों हेतु अपर जिलाधिकारी हरवीर सिह की अध्यक्षता में नगर निगम सभागार में बैठक आयोजित हुई.

बैठक मे अपर जिलाधिकारी हरवीर सिह ने कहा कि यह राष्टीय कार्यक्रम है. इसमे सभी विभागीय अधिकारियों के साथ ही जनप्रतिनिधि, स्वयंसेवी सस्थाओ का पूर्ण सहयोग लिया जाए. उन्होने कहा सभी शिक्षा अधिकारी व बाल विकास अधिकारी स्कूलों में शतप्रतिशत बच्चों का टीकाकरण कराना सुनिश्चित करेगे. उन्होने प्राइवेट स्कूलों के प्रबन्धकों को रूबीला टीकाकरण अभियान को सफल बनाने की पूर्ण सहयोग की अपील की. उन्होने कहा कि 10 अगस्त को कृमि मुक्त दिवस पर 1 वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चों को कृमि मारने की दवा खिलाई जायेगी. स्कूलों मे दवा खिलाते समय स्वास्थ्य कर्मी अथवा अधिकारी अनिवार्य रूप से उपस्थित रहेंगे. उन्होने कहा कि स्वास्थ्य कर्मी अथवा अध्यापक अपने उपस्थिति में ही बच्चो को कृमि नाशक दवा खिलायेंगे.

मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एचके जोशी ने कहा कि मिजल्स रूबेला अभियान में लगाये जाने वाले सभी कार्मिकों को समय से ट्रेनिंग दे दी जाए, साथ ही कार्ययोजना बनाकर प्रस्तुत करें. उन्होने कहा कि मेजल्स टीकाकरण के अन्तर्गत 9 माह से 15 वर्ष के सभी बच्चो को प्रतिरक्षित करना है ताकि भविष्य में खसर, रूबेला से बच्चे प्रभावित ना हों. उन्होने कहा कि इस अभियान में एक भी बच्चा नही छूटना चाहिए.

डा0 जोशी ने कहा कि राष्टीय कृमि दिवस की तैयारियां पूर्ण कर लें. उन्होने कहा कि बच्चों को खाली पेट दवा ना दी जाए व बच्चे दवा चबा कर खायें व छोटे बच्चों को पाउडर बनाकर दवा खिलायें, साथ ही उन्होने कहा कि बच्चो को खाने से पहले हाथ धोने व आसपास साफ सफाई रखने के लिए प्रेरित किया जाए, ताकि स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत की परिकल्पना साकार हो सके. उन्होने मिजल्स रूबेला अभियान व कृमि दिवस का गांवो मे स्वास्थ्य व बाल विकास कर्मीयांे वृहद प्रचार प्रसार करने के निर्देश दिये.

बैठक में अपर पुलिस अधीक्षक अमित श्रीवास्तव,प्रतिरक्षण अधिकारी डा0 एमएम तिवारी,नगर स्वास्थ्य अधिकारी तुहिन कुमार, जिला कार्यक्रम एवं बाल विकास अधिकारी अनुलेखा विष्ट, एआरटीओ असित झा, मदन महरा, दीवान विष्ट,ब्लाक चिकित्साशिक्षा अधिकारी आदि मौजूद थे.