बिहार में बहार है, अब बीजेपी से साथ नीतीश कुमार है; 10 बजे शपथग्रहण

नीतीश कुमार गुरुवार सुबह 10 बजे बिहार के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण करेंगे. वहीं, राजद नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश के शपथ लेने में जल्दबाजी पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब राज्यपाल ने उन्हें सुबह 11 बजे मिलने का वक्त दिया था तो फिर जदयू-भाजपा गठजोड़ को सुबह 10 बजे शपथ लेने के लिए आमंत्रित कैसे किया.

तेजस्वी ने कहा कि उनकी पार्टी इसके खिलाफ राजभवन के बाहर धरना देगी. तेजस्वी ने ट्वीट किया, ‘राज्यपाल ने हमें सुबह 11 बजे का समय दिया और अब अचानक उन्होंने राजग को सुबह 10 बजे शपथ ग्रहण समारोह के लिए आमंत्रित कर दिया. इतनी जल्दबाजी क्या थी श्रीमान ईमानदार एवं नैतिक?’

तेजस्वी ने कहा, ‘यदि नीतीश कुमार जी को अपने नैतिक मूल्यों और अपनी ईमानदारी पर गर्व है, तो वह सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए आधी रात में नहीं जाते. ईमानदार व्यक्ति को भय नहीं होता.’ उन्होंने दावा किया कि जदयू के आधे विधायक उनके सम्पर्क में थे और इसी कारण नीतीश कुमार सरकार बनाने का दावा करने के लिए आधी रात में ही राजभवन गए.

इस बीच, नीतीश कुमार ने भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी और भाजपा के अन्य नेताओं के साथ राजभवन में राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी से मुलाकात की.

राज्यपाल से मुलाकात के बाद सुशील कुमार मोदी ने संवाददाताओं को बताया कि गठबंधन को समर्थन करने वाले 132 विधायकों की एक सूची राज्यपाल को सौंपी गई. उन्होंने बताया कि राज्यपाल ने नीतीश को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है.

इन विधायकों में जदयू के 71, भाजपा के 53, रालोसपा के दो, लोजपा के दो, हम के एक और तीन निर्दलीय शामिल हैं. उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण समारोह सुबह 10 बजे होगा. यह मुख्यमंत्री के तौर पर कुमार का छठा कार्यकाल होगा.