नवजात बच्चे के हाथ और पैर की एक भी उंगलियां नहीं

मुंबई के ठाणे में एक अजीबोगरीब मामला देखने में आया. यहां एक महिला ने ऐसे बच्चे को जन्म दिया है जिसके हाथ और पैर की उंगलियां नहीं है. जब कुमार दंपती अपने बच्चे के हाथ-पैर देखे तो उनकी आंखों से आंसू टपकने लगे और चेहरे पर मासूम के लिए चिंता की लकीरें खिंच गईं.

पेशे से सॉफ्टवेयर इंजिनियर जितेंद्र कुमार ने बताया कि उनके बच्चे के हाथ और पैर की उंगलियां नहीं है. वह बार-बार यह पूछकर रो पड़ते हैं कि वह कैसे खुद से कुछ खा पाएगा, कैसे पेन पकड़ पाएगा और कैसे कम्प्यूटर चला पाएगा.

डॉक्टरों का कहना है कि बच्चे की बीसों उंगलियां न होना रेयर है. ऐसे बहुत कम केस देखने को मिले हैं जब हाथ और पैर में एक भी उंगली न हो. जितेंद्र का इस घटना को एक अलग ऐंगल से देख पा रहे हैं. उनके मन में कई सवाल हैं. वह कहते हैं कि डॉक्टर अभी जिस केस को रेयर बता रहे हैं, यह बात उन्हें मेरी वाइफ के डायग्नॉस्टिक स्कैन्स में ही पता चल जानी चाहिए थी. प्रेग्नेंसी के समय हुए 6 में से एक स्कैन में भी किसी भी तरह की डिसेबिलिटी का पता कैसे नहीं चला?

कुमार ने कहा कि 12 जुलाई को ठाणे नर्सिंग होम में उन्हें जब स्त्री रोग विशेषज्ञ ने सिज़ेरियन सेक्शन डिलीवरी के दौरान बुलाया उन्हें तब पता चला कि बच्चे के हाथ-पैर की सभी उंगलियां नहीं हैं. कुमार कहते हैं कि अगर मुझे पहले ये पता होता तो क्या मैं ऐसे बच्चे जिसकी बहुत खास जरूरते हैं, को धरती पर लाता, वह भी तब जब मेरी आधी उम्र निकल चुकी है. तब क्या होगा जब मैं उसकी मदद के लिए नहीं बचूंगा?

पिछले पखवाड़े में कपल ने इंटरनेट पर इसके बारे में बहुत सर्च किया. तब उन्हें पता चला कि इस तरह की डिसेबिलिटी का पता पांचवे महीने में चल जाता है. कुमार ने कहा कि हम इसके लिए किसी पर दोष नहीं डाल रहे हैं पर लेकिन हमें इसके बारे में पहले से ही पता होना चाहिए था. दंपती कई तरह के ऐक्शन लेने के बारे में सोच रहा है पर फिलहाल वह बच्चे की देखभाल में व्यस्त है. कुमार ने कहा कि फिलहाल हमें अब बच्चे का बहुत ख्याल रखने की जरूरत है कानूनी लड़ाई में तो जाने कितने दशक लग जाएंगे.