नही रहे देश के मशहूर वैज्ञानिक और शिक्षाविद् प्रोफेसर यशपाल

देश के मशहूर वैज्ञानिक और शिक्षाविद् प्रोफेसर यशपाल का बीती रात 3 बजे नोएडा के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया है. वे 91 साल के थे. रिश्तेदारों ने बताया कि उनका अंतिम संस्कार नोएडा के सेक्टर 94 स्थित श्मशान घाट में किया जाएगा. प्रफेसर यशपाल को साइंस और इंजिनियरिंग के क्षेत्र में योगदान के लिए जाना जाता है.

देश के बड़े वैज्ञानिकों में शुमार प्रफेसर यशपाल का जन्म 26 नवंबर 1926 को हरियाणा में हुआ था. 1976 में पद्म भूषण से नवाजे गए प्रफेसर यशपाल को 2013 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च से की थी. 1973 में सरकार ने उन्हें स्पेस ऐप्लीकेशन सेंटर का पहला डायरेक्टर नियुक्त किया गया. 1983-84 में वह प्लानिंग कमिशन के चीफ कंसल्टेंट भी रहे.

प्रफेसर यशपाल साल 2007 से 2012 तक देश के बड़े विश्व विद्यालयों में से दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के वाइस चांसलर भी रहे. साल 2009 में विज्ञान को बढ़ावा देने और उसे लोकप्रिय बनाने में अहम भूमिका निभाने की वजह से उन्हें UNESCO ने कलिंग सम्मान से नवाजा था.