मायावती के इस्तीफे के बाद लालू बोले- बिहार से राज्यसभा भेजेंगे

दलितों के मुद्दे पर संसद में आवाज दबाने का आरोप लगाकर राज्यसभा से इस्तीफा देने वाली बीएसपी सुप्रीमो मायावती को आरजेडी प्रमुख लालू यादव का साथ मिला है. लालू यादव ने कहा है कि दलितों का मुद्दा सांसद पद से ऊपर है, मायावती जी को हम बिहार से राज्यसभा भेजेंगे.

मायावती के समर्थन में उतरे लालू यादव ने कहा, ”आज संसद में काला इतिहास लिखा गया है. मायावती गरीबों और दलितों की नेता हैं. मायावती जी सहारनपुर की घटना को उच्च सदन में उठाना चाहती थीं लेकिन जिस तरह से सरकार के सभी लोग मिलकर उन्हें रोकने का और ना बोलने देने का जो उपाय किया, इसलिए उन्होंने खिन्न होकर इस्तीफा दिया. यह सही बात है जिस जगह पर दलितों और पिछड़ों की बात ना सुनी जाए वहां रहने का कोई फायदा नहीं.”मायावती जी ने जो कदम उठाया है हम उसके साथ हैं. अगर वो चाहेंगी तो हम उन्हें बिहार से राज्यसभा भेजेंगे. उनका हक छीन लिया गया है, ये लोकतंत्र के खिलाफ है. एक बहुत खराब परंपरा कायम की है. मैं मायावती जी को उनको साहस के लिए बधाई देता हूं.”

बीएसपी प्रमुख मायावती ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया है. सभापति को भेजी तीन पेज की चिट्ठी में मायावती ने मंगलवार के राज्यसभा के पूरे वाक्ये का जिक्र करते हुए कहा कि मैं सहारनपुर हिंसा पर अपनी बात रखना चाहती थी कि लेकिन मुझे बोलने नहीं दिया गया. आपको बता दें कि अगले साल मायावती का कार्यकाल खत्म हो रहा था.मायावती ने कहा, ”मैं दलित समाज से संबंध रखती हूं, सत्ता पक्ष मुझे अपनी बात नहीं रखने दे रहा है. मैं जब बोल रही थी तब सरकार के मंत्री खड़े हो गए और मुझे बोलने नहीं दिया गया. मैंने इस देश के करोड़ों दलितों, पिछड़ों, मजदूरों और किसानों के हित में राज्यसभा के सभापति को इस्तीफा सौंपा है. जब सत्ता पक्ष मुझे अपनी बात रखने का भी समय नहीं दे रहा तो मेरा इस्तीफा देना ही ठीक है.”

संसद के मानसून सत्र में मंगलवार मायावती सहारनपुर हिंसा पर अपनी बात रखना चाह रही थीं. इसी दौरान उन्होंने आरोप लगाया कि वो दलितों का मुद्दा उठा रही हैं इसलिए उन्हें बोलने नहीं दिया जा रहा है. इसी के साथ सदन से वॉकआउट करते हुए मायावती ने धमकी दी थी कि वो राज्यसभा से इस्तीफा दे देंगी.