कल राष्ट्रपति चुनाव, देहरादून में मतदान करेंगे बिहार के ये विधायक महोदय

राष्ट्रपति चुनाव

सोमवार 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के दौरान बिहार के ओबरा विधानसभा क्षेत्र से आरजेडी विधायक वीरेंद्र कुमार सिन्हा व्यक्तिगत कारणों से देहरादून में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. बिहार विधानसभा के बाकी सदस्य पटना में ही मतदान करेंगे.

बिहार विधानसभा के सचिव सह सहायक निर्वाची पदाधिकारी राम श्रेष्ठ राय ने शनिवार को संवाददाताओं को संबोधित करते हुए बताया कि ओबरा से विधायक वीरेंद्र कुमार सिन्हा ने आवेदन उनके पास दिया था कि वह उस दिन पटना में उपलब्ध नहीं रहेंगे. अपने पुत्र के शैक्षणिक प्रमाण पत्र के लिए उन्हें उस दिन उत्तराखंड के देहरादून में बतौर अभिभावक उपस्थित रहना अनिवार्य है, इसलिए वह वहीं अपना वोट डालेंगे.

राय ने बताया कि वीरेंद्र कुमार सिन्हा के उक्त आवेदन को उन्होंने निर्वाचन आयोग को अग्रसारित कर दिया, जिसने उन्हें देहरादून में मतदान करने की अनुमति प्रदान कर दी है.

उन्होंने बताया कि बिहारशरीफ जेल में बंद आरजेडी विधायक राजबल्लभ यादव के मतदान को लेकर न्यायालय से कोई अनुमति वाला पत्र अबतक प्राप्त नहीं हुआ है. हालांकि इस चुनाव को लेकर उन्हें अवगत कराए जाने के लिए बिहारशरीफ कारा अधीक्षक को सूचित किया जा चुका है.

राय ने बताया कि बिहार से सांसदों के लिए भी यहां मतदान की व्यवस्था की गयी है, लेकिन उनकी ओर से अ​भी तक कोई आवेदन प्राप्त नहीं हुआ है.

पटना के जिलाधिकारी संजय अग्रवाल तथा पुलिस अधीक्षक (यातायात) पीके दास के साथ पत्रकारों को संबोधित करते हुए इस मतदान को लेकर की गई तैयारियों के बारे में बताया कि मतदान गुप्त होगा तथा इसके लिए निर्वाचन आयोग की ओर से विशेष कलम की व्यवस्था की गई है.

उन्होंने मतदान की प्रक्रिया के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मतदाताओं को अपना पेन अथवा अन्य सामग्री मतदान कक्ष में ले जाना वर्जित होगा.

सोमवार 17 जुलाई को होने वाले ​राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए की ओर से बिहार के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद को उम्मीदवार बनाया गया है, जबकि विपक्षी दलों की साझा उम्मीदवार पूर्व लोकसभा अध्यक्ष तथा बिहार निवासी मीरा कुमार हैं.

243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में आरजेडी के 80, जेडीयू के 71, बीजेपी के 53, कांग्रेस के 27, भाकपा माले के 03, एलजेपी के 02, रालोसपा के 02, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (सेक्युलर) के 01 तथा 04 निर्दलीय विधायक हैं.

बिहार महागठबंधन (जेडीयू—आरजेडी—कांग्रेस) सरकार में शामिल जेडीयू ने एनडीए उम्मीदवार का समर्थन किया है, जबकि आरजेडी और कांग्रेस ने विपक्षी दलों के साझा उम्मीदवार का समर्थन करने की घोषणा की है.