सुनिश्चत हो कि राष्ट्रपति चुनाव स्वतंत्र एवं निष्पक्ष हो : रामविलास पासवान

केंद्रीय मंत्री और लोकजनशक्ति पार्टी (लोजपा) प्रमुख राम विलास पासवान ने आशंका जतायी कि 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया को प्रभावित करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक गजेट्स का गलत इस्तेमाल हो सकता है और ऐसा नहीं हो पाए, यह सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने निर्वाचन आयोग को पत्र भी लिखा है.

मुख्य निर्वाचन आयुक्त (सीईसी) को लिखे पत्र में पासवान ने यह चिंता जतायी कि ‘परिष्कृत इलेक्ट्रॉनिक गजेट्स के युग’ में ऐसी प्रबल संभावना है कि राष्ट्रपति चुनावों के लिए मतदान प्रक्रिया के दौरान मतदाताओं पर नजर रखने के लिए इनका गलत इस्तेमाल हो सकता है और इसलिए यह संविधान के अनुच्छेद 55 (3) का उल्लंघन करता है, जो गुप्त मतदान सुनिश्चित करता है.

पासवान का यह पत्र उनके ट्विटर पेज पर भी पोस्ट किया गया है.