अमरनाथ हमला: कश्मीर बंद, देश भर में हाई अलर्ट, कांवड़ियों की सुरक्षा कड़ी

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले के बाद पूरे देश में सुरक्षा एजेंसियों को हाई अलर्ट कर दिया गया है. सभी टॉप अफसर सुरक्षा हालात की समीक्षा में लगे हुए हैं. यूपी में कांवड़ यात्रा पर निकलने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा चाक-चौबंद करने के आदेश दिए गए हैं. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार सुबह 10 बजे एक अहम बैठक बुलाई . इस बीच, गृह मंत्रालय की एक टीम श्रीनगर रवाना हो गई है. बता दें कि सोमवार शाम अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए आतंकी हमले में 7 लोगों की मौत हो गई थी , ये श्रद्धालु दर्शन के बाद वापस लौट रहे थे.

अमरनाथ तीर्थयात्रियों पर आतंकी हमले की खबर फैलते ही व्यापार संगठनों और अन्य संगठनों जैसे वीएचपी, बजरंग दल, नेकां, जम्मू चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री और जम्मू कश्मीर नेशनल पैंथर पार्टी ने मंगलवार को जम्मू में बंद का आवाहन किया है. वहीं अनंतनाग में हत्याओं के विरोध में जम्मू-कथुआ राष्ट्रीय राजमार्ग को रात में देर से अवरुद्ध किया गया था. पुलिस ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर नाका लगा दिया है. एक उच्च अधिकारी के अनुसार वैष्णोदेवी मंदिर मार्ग में सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है. हालांकि यात्रा बिना किसी बाधा के चल रही थी, फिर भी वहां अलर्ट जारी रखा गया है.

उधर, जम्मू चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष राकेश गुप्ता ने लोगों से अपील की कि अमरनाथ पीडि़तों की याद में बंद को पूरी तरह से सफल बनाएं. उन्होंने कहा कि चैम्बर ने प्रत्येक व्यक्ति को यात्रा के लिए बड़ी संख्या में जाने के लिए कहा था ताकि आतंकवादियों को सही जवाब दिया जा सके और संदेश भेज सकें कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है. उन्होंने बंद के दौरान लोगों को शांति बनाए रखने के लिए भी अपील की.उन्होंने कहा कि यह योजना सभी यात्रा कमानों को पुलिस और अर्धसैनिक बलों की सुरक्षा में घाटी के लिए सामान्य रूप से 3 बजे तक जाने की अनुमति देना है. उन्होंने कहा आज यात्रा के निलंबन के बारे में अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है, यदि ऐसा होगा तो समय रहते इसकी घोषणा कर दी जाएगी.

वहीं, राज्य के कई आला सुरक्षा अधिकारी मंगलवार सुबह घटनास्थल पर पहुंचे और हालात का जायजा लिया. सीआरपीएफ के आईजी ऑपरेशंस जुल्फिकार हसन ने कहा कि हमले की जांच जम्मू-कश्मीर पुलिस कर रही है. जुल्फिकार ने बताया कि यात्रा अब भी जारी है और इसके शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न करवाने के लिए सुरक्षा के समुचित इंतजाम किए गए हैं. उधर, जम्मू में मोबाइल डेटा सर्विस को रोक दिया गया. सिर्फ बीएसएनएल की ब्रॉडबैंड सर्विस सीमित स्पीड के साथ उपलब्ध है.