जम्मू-कश्मीर पुलिस के हत्थे चढ़ा यूपी निवासी लश्कर का आतंकी

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर का रहने वाला आतंकी संदीप शर्मा उर्फ आदिल को सुरक्षाबलों ने जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले से गिरफ्तार किया है. बता दें संदीप उर्फ आदिल एसएचओ फिरोज भट्ट की हत्या में भी शामिल था. उसे उसके एक और साथी के साथ गिरफ्तार किया गया है. कश्मीर के आईजीपी मुनीर खान ने बताया कि संदीप शर्मा पुत्र राम शर्मा एक अपराधी है और वह लश्कर के संपर्क में सोपोर के रहने वाले शकूर के माध्यम से आया.

मुनीर खान ने बताया कि संदीप को अनंतनाग में उसी घर से पकड़ा गया है जहां लश्कर का टॉप कमांडर बशीर लश्करी मारा गया था. उन्होंने बताया कि जिस दिन बशीर लश्करी मारा गया था उस दिन आतंकियों ने करीब 17 सिविलियंस को बंधक बना लिया था. जब उन्हें छुड़ाया गया तो पता चला कि संदीप कश्मीर का रहने वाला नहीं है. यह देख उन्हें आश्चर्य हुआ और उन्होंने पूछताछ के लिए उसे रोक लिया. बाद में पूछताछ में सामने आया कि वह लश्कर आतंकियों का सहयोगी था. यदि पुलिस उसके नॉन-लोकल होने को लेकर सतर्क नहीं होती तो वह आसानी से वहां से भाग सकता था.

बड़ी घटनाओं में रहा है शामिल- आईजी के मुताबिक पिछले दो महीनों में कश्मीर में हुई तीन बड़ी घटनाओं में संदीप उर्फ आदिल शामिल रहा है. इनमें वह घटना भी शामिल है जिसमें एक एसएचओ समेत पांच पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. उन्होंने कहा कि वह सिर्फ नक्सली समर्थक नहीं था, वह लश्कर का एक्टिव आतंकवादी था.

पुलिस के मुताबिक एटीएम लूट जैसी वारदातों को अंजाम देने वाला शातिर संदीप शर्मा लश्कर के संपर्क में आने के बाद अपना नाम आदिल रख लिया था और एक मुसलमान की तरह रहने लगा था. इतना ही नहीं वह लश्कर के कैंप में 5 वक्त की नमाज भी पढ़ता था. संदीप उर्फ आदिल लश्कर के लिए एटीएम लूट कर फण्ड जुटाता था. वह पंजाब और यूपी के कई एटीएम लूट में शामिल भी रहा है.

मामला सामने आने के बाद नोएडा से एटीएस की एक टीम मुजफ्फरनगर के लिए रवाना हो गई है. एटीएस की टीम संदीप उर्फ़ आदिल के परिवार वालों से पूछताछ करेगी. आदिल की गिरफ्तारी के बाद यूपी पुलिस के हाथ-पांव फूल गए हैं, क्योंकि लश्कर जैसे आतंकी संगठन अब पेशेवर अपराधियों का माइंडवाश कर उन्हें आतंकी गतिविधियों में शामिल कर रहे हैं.

कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं- वहीं एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने बताया कि संदीप मुजफ्फरनगर के नई मंडी का रहने वाला है. उन्होंने बताया कि अभी तक संदीप का कोई भी आपराधिक रिकॉर्ड नहीं मिला है. यूपी एटीएस की टीम संदीप के घर जा रही और वह उसके परिजनों से पूछताछ करेगी.