सतपुली में सामान्य हुए हालात, रोकी रैली

उत्तराखंड के सतपुली में एक युवक द्वारा फेसबुक पर बाबा केदारनाथ पर अभद्र टिप्पणी करने के बाद रविवार को बवाल हो गया. पोस्ट से भड़के अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने आरोपी की दुकान पर धावा बोलकर आग लगा दी. देखते ही देखते पूरा बाजार बंद हो गया था. घटना से इलाके में तनाव फैल गया था. स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए नगर में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है. आरोपी युवक को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. उधर, सोमवार को बाजार में हालात सामान्य हैं. पुलिस ने कानून व्यवस्था बनाने के लिए शहर में फ्लैगमार्च भी निकाला. इस दौरान रैली निकाल रहे भाजपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोक लिया. इससे नाराज कार्यकर्ताओं ने अपनी ही सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

सोमवार सुबह कस्बाई बाजार का माहौल पहले की तरह ही सामान्य रहा. हालांकि पुलिस पूरी मुस्तैदी के साथ बाजार के चप्पे चप्पे पर मौजूद रही. सतपुली से सटे ग्रामीण क्षेत्रों से आए लोगो भी आम दिन की तरह खरीदारी करते नजर आए. पौड़ी, कोटद्वार व ग्रामीण रूटो से आने वाली सवारी गाड़िया भी आम दिनों की तरह सतपुली से गुजरती रही.पुलिस के अनुसार सतपुली में फड़ लगाकर फल-सब्जी बेचने वाले एक युवक ने फेसबुक पर लंबे समय से चल रहे एक पोस्ट ‘मैं उत्तराखंडी छौ’ को आपत्तिजनक तरीके से एडिट कर दोबारा से अपलोड कर दिया. पोस्ट में राज्य के एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल की तस्वीर के साथ आपत्तिजनक छेड़छाड़ की गई. रविवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने आरोपी की दुकान पर धावा बोल दिया. भीड़ को देख आरोपी युवक और उसका पिता दुकान से फरार हो गए. इस पर भीड़ ने दुकान में तोड़फोड़ कर वहां से सारा सामान निकाल कर सड़क पर फेंक दिया. इस बीच किसी ने दुकान से बाहर निकाले सामान पर आग भी लगा दी. बवाल की सूचना मिलते ही कोटद्वार से एसडीएम राकेश तिवारी और पुलिस क्षेत्राधिकारी जोधराम जोशी पुलिस फोर्स के साथ घटनास्थल पर पहुंचे.

आरोपी की दुकान में तोड़फोड़ और आगजनी के बाद धार्मिक नारे लगाते हुए भीड़ ने रविवार को सतपुली का पूरा बाजार बंद करा दिया. प्रदर्शनकारी आरोपी युवक की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे. उधर देर शाम तक बाजार सामान्य दिनों की तरह खुल गया. सोमवार को भी हालात सामान्य रहे. सतपुली के पूर्व प्रधान जगदम्बा डंगवाल ने आरोपी युवक के खिलाफ सतपुली थाने में धार्मिक भावनाएं भड़काने और आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कराया है. एसडीएम राकेश तिवारी ने बताया कि आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. उन्होंने लोगों से भी सहयोग करने की अपील की.

सोमवार को एबीवीपी की तिरंगा रैली को सुरक्षा व्यवस्था का हवाला देते हुए पुलिस प्रशासन द्वारा रोक दिया गया. प्रशासन द्वारा रैली की अनुमति न मिलने पर बीजेपी नेता व पूर्व प्रधान सतपुली जगदंबा डंगवाल की अगुवाई मे सैकड़ों एबीवीपी व बीजेपी महिला मोर्चा कार्यकर्ताओ ने दोपहर करीब 12 बजे सतपुली में जैसे तिरंगा रैली निकालने का प्रयास किया, वैसे ही पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे सीओ जेआर जोशी ने रैली को आगे बढ़ने से रोक दिया गया. रैली की अगुवाई कर रहे जगदंबा डंगवाल, इंदू जुयाल, लक्ष्मण बिष्ट व आशीष काला को पुलिस ने जबरन गाड़ी में बैठाया और थाने ले गई. रैली में शामिल कार्यकर्ता भी पुलिस प्रशासन व सरकार खिलाफ नारेबाजी करते हुए थाने पहुंच गए. विधायक सतपाल महाराज का कहना है कि कस्बे में शांति बहाली के लिए डीएम व एसपी को निर्देश दिए गए है. ऐसी घटना दोबारा न घटे इसके लिए भी प्रशासन को नजर रखने के लिए कहा है.