हल्द्वानी : चाचा ने बनाया नाबालिग भतीजी को हवस का शिकार , बनी बिन ब्याही मां

हल्द्वानी, हल्द्वानी में रिश्ते को कलंकित करने वाली एक घटना हुई है. यहां सगे चाचा ने अपनी नाबालिग भतीजी को हवस का शिकार बना डाला. चाचा की वहशियत की शिकार बनी किशोरी गर्भवती हो गयी और एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया. लोकलाज के कारण किशोरी के मां-बाप ने बच्चे को एक आशा कार्यकत्री के हवाले कर दिया. यह भेद बाद में खुल गया और जमकर हंगामा हुआ. पुलिस ने नवजात को परिजनों के साथ सिटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया. सिटी मजिस्ट्रेट ने बच्ची को नाना-नानी के सुपुर्द कर कानूनी प्रक्रिया के तहत गोद देने के निर्देश दिए हैं.

पुलिस के मुताबिक धारी ब्लाक में रहने वाली 15 साल की किशोरी से उसके रिश्ते के चाचा ने अवैध संबंध बनाए. इसी बीच किशोरी गर्भवती हो गई. लोक-लाज के भय से उसने किसी को नहीं बताया. छह माह का गर्भ होने पर किशोरी की हालत बिगड़ी तो परिजनों को इसका पता लगा. अब गर्भपात भी संभव नहीं था. कुछ दिन पहले माता-पिता किशोरी को लेकर हल्द्वानी पहुंच गए. आठ दिन पहले एक सरकारी अस्पताल में किशोरी ने एक बच्ची को जन्म दिया.अब बच्ची को साथ रखने से परिवार वालों को इज्जत जाने का खतरा सताने लगा. इस पर नाना ने नवजात को गोद लेने वाले व्यक्ति की तलाश शुरू कर दी. एक आशा को बच्चा दे भी दिया गया था.

इसी दौरान एक महिला ने कोतवाली में शिकायत की तो पुलिस अलर्ट हो गई. पुलिस के निर्देश पर नवजात के साथ ही नाना-नानी और रिश्तेदारों को कोतवाली बुला लिया गया. नाना बच्ची को किसी को गोद देने की विनती कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने कानूनी बाध्यता का हवाला देते हुए इसकी अनुमति नहीं दी. कोतवाल खुशी राम पांडे ने बताया कि शाम को नवजात व रिश्तेदारों को सिटी मजिस्ट्रेट के न्यायालय में पेश किया गया. सिटी मजिस्ट्रेट ने नवजात को नाना-नानी के संरक्षण में दिया है. साथ ही किसी को गोद देने के लिए कानूनी प्रक्रिया का पालन करने के निर्देश दिए हैं. यानी जिस लोकलाज के कारण परिजन बच्चे को किसी के हवाले करना चाहते थे वह संभव नहीं हे सका.