चंपावत का युवक मलेशिया में गिरफ्तार, परिजन परेशान

चंपावत, पर्यटक वीजा पर मलेशिया गए चंपावत के एक युवक की परेशानियां बढ़ गई हैं. बताया जा रहा है कि उसे मलेशिया पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.इस बात की सूचना मिलते ही युवक के परिजन परेशान हैं.चंपावत के लधिया घाटी क्षेत्र का एक युवक एक माह के पर्यटक वीजा लेकर मलेशिया गया हुआ था. उन्होंने विदेश मंत्रालय को ट्वीट कर कैद से मुक्त कराने की गुहार लगाई. रीठा साहिब क्षेत्र के तलाड़ी गांव के मूल निवासी (अभी हरिद्वार में रह रहे) अशोक भट्ट (22) पुत्र विद्याधर भट्ट को मलयेशिया पुलिस ने पकड़ा है. अशोक के चचेरे भाई सुनील भट्ट ने बताया कि अशोक घूमने के उद्देश्य से आठ जून को मलयेशिया में पंजाब निवासी दोस्त संदीप के यहां गया था.

उल्लेखनीय है कि 17 जून को जब अशोक मलेशिया की जौहार बाहरो बाजार गया, तो वह दोस्त के कमरे में वीजा भूल आया. पुलिस ने वीजा न दिखाने पर अशोक को पकड़ लिया. संदीप ने बताया कि वीजा लाकर दिखाने के बाद भी अशोक को पुलिस ने 14 दिन की रिमांड पर ले लिया. सुनील ने बताया कि 17 जून को गिरफ्तार होने से पहले उनकी अशोक से बात होती रही, लेकिन इसके बाद से कोई संपर्क नहीं हो सका है. उन्होंने मलेशिया पुलिस पर परेशान करने का भी आरोप लगाया. रीठा साहिब क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता नवीन भंडारी ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट कर अशोक के मलेशिया में फंसे होने की जानकारी देते हुए वहां से छुड़ाने में सहयोग करने की अपील की है. अशोक के मलेशिया में पुलिस गिरफ्त में होने से पिता विद्याधर भट्ट, मां ईश्वरी देवी, बहन रेनू भट्ट और बड़े भाई राकेश भट्ट का बुरा हाल है. अशोक के पिता खेतीबाड़ी और भाई पंडिताई करते हैं.

बता दें कि यह पहला मामला नहीं है इससे पहले भी बीते माह चंपावत जिले के लोहाघाट ब्लाक स्थित हथरंगिया निवासी जगत सिंह ने मलेशिया से परिजनों को फोन कर मदद की गुहार लगाई. जगत सिंह के फोन आने के बाद उसके घर में कोहराम मचा गया. सभी ने उसकी सलामती की दुआ मांगी थी. जगत सिंह की पत्नी नीलम देवी ने बताया कि तीन साल पहले होटल में काम करने के लिए वह मलेशिया गया था. इसके लिए जगत सिंह ने तीन साल का वीजा बनाया था. उसने बताया कि बीती 24 जनवरी की सायं मलेशिया से जगत सिंह का फोन आया कि उसके वीजा की अवधि समाप्त हो गई. वह जिस होटल में वह काम करता है, उसके मालिक ने पासपोर्ट जब्त कर लिया और जबरन काम करवा रहा था. उसने बताया कि टार्चर की डर से वह होटल से कहीं भाग गया था.