नगर विकास, स्मार्ट सीटी विषय को लेकर मुख्यमंत्री ने की शहरी विकास विभाग की समीक्षा

नगर विकास, स्मार्ट सिटी विषय को लेकर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गुरूवार को सचिवालय में अधिकारियों की बैठक ली. मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि नगर विकास योजना स्कूल, पार्क व मैदान को दृष्टिगत रखते हुए बनायी जाए. उन्होंने कहा कि इसका ध्यान विशेषकर स्मार्ट सिटी योजना में रखा जाए, जोकि देहरादून नगर का हैरिटेज लुक बनें. मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि 150 से 200 बीघा में 500 करोड़ रूपये की लागत की साइंस सिटी योजना के लिए तैयारी कर ली जाए. सभी योजना मास्टर प्लान के अनुसार तैयार की जाए.

प्रधानमंत्री आवास योजना की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि लाभार्थियों के सर्वेक्षण एवं जानकारी के लिए कैम्प लगाए जाए. मुख्यमंत्री ने संस्कृति ग्राम के लिए देहरादून के समीप भूमि चिन्ह्ति करने के भी निर्देश दिए. मुख्यमंत्री ने स्थानीय निकायों की आत्मनिर्भरता नगर निगम की भांति नगर पालिका, नगर पंचायत में भी लागू करने पर बल दिया. इससे निकाय की आय बढेगी.

मुख्यमंत्री ने व्यू प्वाइंट विशेषकर गंगा व्यू प्वाइंट पर होर्डिंग न लगाने के निर्देश दिए. उत्तराखण्ड के जो भी पर्यटन स्थल व्यू प्वाइंट पर है, उन पर भी होर्डिंग्स लगाने की अनुमति नही देने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए. मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने नगर निगम में सम्पत्ति कर स्वयं मूल्यांकन पद्धति को अन्य नगर निकाय पर लागू करने पर विचार करने की बात कही. स्वच्छता कार्यक्रम पर बल देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नये विकसित नगरीय क्षेत्रो में संविदा पर संविदाकर्मी पर्यावरण मित्र के रूप में रखे जाए. इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री श्री मदन कौशिक, अपर मुख्य सचिव श्री ओमप्रकाश, सचिव श्रीमती राधिका झा, श्री अमित सिंह नेगी, उपाध्यक्ष एम.डी.डी.ए. श्री विनय शंकर पाण्डेय, निदेशक नगर विकास श्री नवनीत पाण्डेय आदि उपस्थित थे.