नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपये की ठगी, आरोपी गिरफ्तार

कोटद्वार, मर्चेंट नेवी में नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों रुपये की ठगी करने के आरोपी को गिरफ्तार कर कोटद्वार पुलिस ने जेल भेज दिया है. आरोपी के पकड़े जाने की भनक लगते ही कई लोगों ने थाने पहुंच कर पुलिस को बताया कि उक्त व्यक्ति ने उनके साथ भी ठगी की है.पदमपुर निवासी राकेश उनियाल ने बीती 27 जनवरी को कोटद्वार कोतवाली में तहरीर देकर कहा था कि जनपद पौड़ी की मनियारस्यूं पट्टी के अन्तर्गत ग्राम पंचाली निवासी गोवर्द्धन सिंह रावत पुत्र बलवंत सिंह रावत ने उनके बेटे को मर्चेंट नेवी में नौकरी दिलाने के नाम पर दो लाख रुपये लिये थे.

लेकिन पैसे देने के बाद लम्बे समय तक गोवर्द्धन उनको टरकाने लगा. इतना ही नहीं उसने अपना फोन नम्बर भी बदल लिया. तहरीर के आधार पर पुलिस ने गोवर्द्धन के खिलाफ धारा 420 समेत कई अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया था. तब से पुलिस लगातार आरोपी को ढूंढ रही थी.मामले की जांच कर रहे उपनिरीक्षक सतेन्द्र भाटी ने बताया कि मोबाइल लोकेशन मिलने के बाद पुलिस ने काफी जगह दबिश भी दी, लेकिन आरोपी लगातार बचता रहा. उन्होंने बताया कि शुक्रवार सुबह सूचना मिली कि गोवर्द्धन रोडवेज बस स्टेंड के पास खड़ा है और कहीं भाग निकलने की फिराक में है. इसके बाद पुलिस ने तत्काल मौके पर पहुंच कर उसको गिरफ्तार कर लिया.

उसकी गिरफ्तारी की जानकारी लगते ही कोटद्वार के कई लोग कोतवाली पहुंच कर बताने लगे कि गोवर्द्धन ने उनको भी नौकरी दिलाने के नाम पर उनसे मोटी रकम ऐंठी है.रुद्रप्रयाग में आपदा के वक्त आपदा प्रबंधन और पुलिस के पास संसाधनों की कमी साफ नजर आती है. जिले में गोताखोर नहीं हैं. जबकि राफ्ट और कुशल जल पुलिस भी नहीं है. आपदा प्रबंधन के पास भी हमेशा संसाधनों का रोना रहा है. यह स्थिति तब है जब केदारनाथ जैसी भीषण आपदा इस जिले में हो चुकी है. तब भी शासन और प्रशासन लोगों की सुरक्षा को गंभीर नहीं है.