नानकमत्ता : तहसीलदार ने शुरू की किसान की मौत की जांच

नानकमत्ता, ग्राम बिरिया भूड़ में हुई किसान की मौत को गंभीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने जांच के लिए एक कमेटी का गठन कर दिया है. तहसीलदार के नेतृत्व में टीम गांव में जाकर परिजनों के बयान दर्ज किए.किसान मस्सा सिंह की मौत की जांच को तहसीलदार शेर सिंह व नानकमत्ता पुलिस के उपनिरीक्षक खुशवंत सिंह साथ संयुक्त टीम में शामिल रहें. ज्ञात रहे की विगत दिवस ग्राम बिरिया भूड़ निवासी किसान मस्सा सिंह की मौत हो गई थी जिसका अतिंम संस्कार परिवार के लोगों ने बगैर पोस्टमार्टम कराए कर दिया था. मृतक के परिजनों व भतीजे जगजीत सिंह का कहना था की उसके ताऊ मस्सा सिंह पर बैंक का कर्ज था उनकी मौत से दो दिन पूर्व ही उन्हें बैंक द्वारा लिए गए कर्ज को जमा करने का नोटिस मिला था. जगजीत का दावा था बैंक से मिले नोटिस में एक लाख इक्यानवें हजार एक सौ बाइस रुपये जमा करने के निर्देश दिए थे.

जिसको लेकर उसका ताऊ मस्सा सिंह तनाव में आ गया और सदमे में उसकी मौत हो गई. हालांकि यह भी तथ्य सामने आ रहा है कि किसान ने हाल में ही कुछ धनराशि बैंक में जमा करके खाता रेगुलाइज कराया था.इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जिलाधिकारी नीरज खैरवाल के निर्देश पर सितारगंज के तहसीलदार शेर सिंह व नानकमत्ता पुलिस की संयुक्त टीम मृतक मस्सा सिंह के घर पहुंची. तहसीलदार शेर सिंह ने मृतक के भतीजे जगजीत सिंह के अलावा घर के अन्य सदस्यों के बयान दर्ज किए. परिवार के लोगों ने बताया की मस्सा सिंह अविवाहित था .

जिस पर तीन लाख का क्रॉप लोन व दो लाख पच्चीस हजार का ट्राली लोन था. बैंक में मृतक व उसके भतीजे जगजीत सिंह का संयुक्त खाता था. मृतक मस्सा सिंह चार भाइयों में सबसे बड़ा था. मृतक से छोटे भाई रधुवीर सिंह की मौत पूर्व में हो चुकी है, जबकि मृतक के दो भाई सुच्चा सिंह व हरदेव सिंह वर्तमन में परिवार के साथ रह रहे हैं. इधर तहसीलदार शेर सिंह ने बताया की जांच पूर्ण होने पर जिलाधिकारी की सौपी जाएगी. उन्होंने कहा की हर बिन्दू पर गंभीरता से जांच की जा रही है.