रुड़की वासी विश्वकप में देखना चाहते हैं मानसी की प्रतिभा

रुड़की, उत्तराखण्ड की बेटी मानसी जोशी का विश्वकप के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में स्थान पक्का होने के बाद शहरवासी क्रिकेट में उनका शानदार प्रदर्शन देखने के लिए बेचैन हो रहे हैं. हम मानसी के बारे में आपको जानकारी देते हुए चलें कि मानसी जोशी एक निम्न मध्यम परिवार से सम्बद्ध रखती है. उसका जीवन हमेंशा सादा तो रहा, लेकिन वह हर कार्य लड़कों की भांति ही करती थी. उसके बारे में आनन्द स्वरुप आर्य के प्रधानाचार्य राजीव गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि मानसी जोशी ने वर्ष 2004 में कक्षा 6 में उनके विद्यालय में दाखिला लिया था.

उनके पिता का नाम भूपेन्द्र जोशी व माता का नाम शांति देवी है. मानसी के पिता रुड़की में किसी फाइनेंस कम्पनी में प्राइवेट जॉब करते थे, जिस कारण उनका कार्य अक्सर बदल जाया करता था. उनकी मां भी आंचल डेरी में क्लर्क रही हैं. लेकिन आज उनका परिवार रुड़की में नहीं रह रहा है. रोज-रोज नौकरी बदल-बदल परेशान अपने परिवार सहित अपने गांव ब्रहमखाल उत्तरकाशी में चले गए थे. मानसी ने फरीदाबाद के एक कॉलेज से एमए की और वहीं से हरियाणा वूमैन क्रिकेट टीम में खेली थी.

मानसी राईट हैंड बैट्समैन एवं राईट आर्म मिडिल फास्ट बोलर है. मानसी वर्ष 2016 में थाईलैंड में हुए 20-20 क्रिकेट एशिया कप में बांग्लादेश के खिलाफ भी खेल चुकी है. राजीव गुप्ता ने बताया कि आज मानसी को बुलन्दियों की ऊंचाईयों पर देख विद्यालय अपने को गौरवान्वित कर रहा है. उन्होंने कहा कि जब मानसी जोशी घर वापस लौटेगी तो उसका स्वागत किया जाएगा.