लखनऊ : सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता पर नौ साल में पांचवी बार हमला

लखनऊ, लखनऊ के अलीगंज क्षेत्र में बीती रात रायबरेली निवासी गैंगरेप पीड़िता पर किसी ने तेजाब फेंक दिया, जो दाहिनी ओर उसके चेहरे व कंधे पर पड़ा. झुलसी महिला को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया. जहां प्लास्टिक सर्जन उसका इलाज कर रहे हैं. फिलहाल पीड़िता की स्थिति इस समय गंभीर बनी हुई है. पीड़िता ने पुलिस को बताया कि वह बीती रात करीब 7:50 बजे हॉस्टल से निचले हिस्से में नल के पास खड़ी थी, तभी एक व्यक्ति ने उस पर तेजाब फेंका

एडीजी लखनऊ जोन अभय प्रसाद व आइजी लखनऊ रेंज जेएन सिंह घटनास्थल व ट्रॉमा सेंटर पहुंचे और पड़ताल की. सीओ अलीगंज विवेक त्रिपाठी के मुताबिक गल्लामंडी क्षेत्र के एक महिला हास्टल में रहने वाली महिला का कहना है कि शनिवार रात करीब 7:50 बजे वह पानी भरने हॉस्टल के नीचे लगे नल पर आई थी, तभी उस पर तेजाब से हमला हुआ. महिला की चीख-पुकार सुनकर हॉस्टल की अन्य महिलाएं बाहर आ गईं.

अपने ऊपर तेजाब फेंकने का आरोप लगाने वाली महिला ने इससे पूर्व 23 मार्च को ट्रेन में उसे जबरन ज्वलनशील पदार्थ पिलाए जाने का आरोप लगाया था. महिला ने रायबरेली निवासी भोंदू सिंह व गुड्डू सिंह के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई थी, जिन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था. वर्तमान में दोनों आरोपित बाहर हैं. घटना के अगले दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ट्रॉमा सेंटर में भर्ती पीड़ित महिला को देखने भी गए थे.

45 साल की इस पीड़िता पर बीते 9 साल में यह पांचवा हमला था. 2008 में 2 लोगों ने प्रॉपर्टी के विवाद के बाद उसका गैंगरेप किया था. 2012 में उस पर चाकू से हमला किया गया. 2013 में उस पर एसिड फेंका गया था. पिछले साल दिसंबर 2016 में उसे बेटी से रेप करने की धमकी दी गई. इसके बाद 23 मार्च 2017 को ट्रेन में तेजाब पिलाने का प्रयास किया गया और अब शनिवार को उसपर फिर से एसिड एटैक किया गया.