सिक्किम में सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत, चीन की ‘1962’ याद दिलाने की कोशिश

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने गुरुवार को उत्तरी सिक्किम में सेना के स्थानीय मुख्यालय का दौरा किया, जहां सेना के शीर्ष कमान अधिकारियों ने उन्हें एक विवादित इलाके को लेकर भारतीय सैनिकों एवं चीनी सेना के बीच हुई झड़प के परिप्रेक्ष्य में पूरे सुरक्षा हालात की जानकारी दी.

दो दिन के दौरे पर पहुंचे बिपिन रावत को सेना के 17 माउंटेन डिवीजन में सीमा पर तनावपूर्ण स्थिति की जानकारी दी जबकि चीन ने झड़प को लेकर अपना रुख कड़ा करते हुए भारतीय सेना को 1962 के युद्ध की तरफ परोक्ष संकेत करते हुए चेतावनी दी कि वह ‘ऐतिहासिक सबक’ से सीख ले.

सेना प्रमुख ने 17 माउंटेन डिवीजन के तहत आने वाले इलाकों का भी दौरा किया और विभिन्न संचालन पहलुओं का जायजा लिया. 17 माउंटेन डिवीजन सिक्किम सेक्टर में चीन-भारत सीमा की सुरक्षा का जिम्मा संभालता है.

एक आधिकारिक स्रोत ने कहा, ‘जनरल रावत को अभियान संबंधी विषयों की जानकारी दी. ‘चीन का रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण डोंगलोंग इलाके में एक सड़क के निर्माण की कोशिश करने के बाद तनातनी शुरू हुई. चीन के डोंगलोंग को सिक्किम-भूटान-तिब्बत त्रिकोणीय जंक्शन से जोड़ने से उसे भारत पर एक बड़ी सैन्य बढ़त मिल सकती है.

भारतीय सेना ने डोंगलोंग में चीन के सड़क निर्माण को रोक दिया. डोंगलोंग चीन और भूटान के बीच एक विवादित क्षेत्र है. जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक फैली 3,488 किलोमीटर लंबी भारत-चीन सीमा का 220 किलोमीटर खंड सिक्किम में आता है.

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि भारतीय पक्ष के अपना अनुरोध खारिज करने के बाद चीन ने बुलडोजर का इस्तेमाल कर डोंगलोंग में भारतीय सेना के एक पुराने बंकर को हटा दिया, जिसके बाद तनातनी शुरू हुई.

तनावपूर्ण स्थिति के बीच चीन ने सीमा विवाद के हल की खातिर ‘सार्थक बातचीत’ की पूर्व शर्त के तौर पर गुरुवार को भारत से सिक्किम सेक्टर के डोंगलोंग इलाके से अपने सैनिक हटाने को कहा और चेतावनी दी कि भारतीय सेना को ‘ऐतिहासिक सबकों’ से सीख लेनी चाहिए.

एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए, चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने बीजिंग में डोंगलोंग में भारत के कथित ‘घुसपैठ’ की तस्वीर दिखाते हुए कहा कि दोनों सेनाओं के बीच टकराव की वजह बनते जा रहे विवाद का तब ही हल हो सकता है जब भारतीय सैनिक इलाके से वापस लौट जाएं.

चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के प्रवक्ता ने भी भारतीय सैनिकों पर सिक्किम सेक्टर के डोंगलोंग इलाके में चीनी क्षेत्र में घुसने का आरोप लगाया. भारतीय सेना ने अब तक मुद्दे को लेकर कोई टिप्पणी नहीं की है.

भूटान ने बुधवार को कहा था कि उसने सड़क निर्माण को लेकर चीन को डिमार्शे जारी किया और चीन से तत्काल निर्माण कार्य रोककर यथास्थिति बहाल करने को कहा.