देहरादून : केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने किया आकाशवाणी केंद्र का शुभारम्भ

देहरादून, गुरुवार को उत्तराखण्ड को एक नई सौगात मिल गई है. केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने देहरादून में दूरदर्शन केंद्र के नए भवन के लोकार्पण साथ ही आकाशवाणी केंद्र का उद्घाटन किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि आकाशवाणी केंद्र से क्षेत्रीय भाषाओं को बढ़ावा दिया जाएगा.उन्होंने कहा कि उत्तराखंड राज्य बनने के बाद से यहां आकाशवाणी केंद्र की मांग चली आ रही थी. जब निशंक मुख्यमंत्री थे, तब इसके लिए भूमि का आवंटन हो गया था, लेकिन किन्हीं कारणों से आकाशवाणी की शुरूआत नहीं हो सकी है.

उन्होंने कहा कि सभी लोगों को अपनी मातृभाषा में ही विचारों का आदान—प्रदान करना चाहिए. असमी, पंजाबी, गढ़वाली, कुमाऊंनी, तमिल, कन्नड़, गुजराती आदि जो किसी की मातृभाषा है उसी को बढ़ावा देना चाहिए. उन्होंने अंग्रेजी भाषा की ओर बढ़ रहे लोगों को आगाह किया कि भाषा और भावना दोनों में गहरा संबंध होता है. इसलिए मातृभाषा से हम आपनी मातृभूमि से जुड़े रह सकते हैं.वैंकया नायडू ने कहा​ कि लम्बे इंताजर के बाद लोगो की ये मांग पूरी हो गयी है. खास बात ये है कि आकाशवाणी पर लोगों के लिए गढ़वाली, कुमाउंनी व जौनसारी समेत तमाम क्षेत्रीय भाषाओं में कार्यकम प्रस्तुत किए जाएंगे. इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने क्षेत्रीय भाषा को आगे बढाने पर बल दिया.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दूरदर्शन भवन के लोकार्पण व आकाशवाणी केन्द्र के शुभारम्भ के लिए केंद्रीय मंत्री नायडू को धन्यवाद दिया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब हम अपने दूरदर्शन केंद्र के माध्यम से अपनी बात देश और दुनिया के सामने बेहतर ढंग से रख सकते हैं. इससे हमारी संस्कृति और सभ्यता का प्रचार—प्रसार होगा. इससे पर्यटन के लिए अपार संभानायें बनेंगी. तीर्थाटन में भी उल्लेखनीय प्रगति आयेगी.इसके मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री व सांसद रमेश पोखरलियाल निशंक, कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक, सांसद राज्य लक्ष्मी शाह भी मौजूद थीं.