देहरादून : त्रिवेन्द्र सरकार ने आयुर्वेदिक शिक्षकों के रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाई, लिए और कई बड़े फैसले

देहरादून, बुधवार को उत्तराखंड की त्रिवेन्द्र सरकार ने राज्य के अलग-अलग विभागों के लिए कई अहम फैसले लिए. इसमें सबसे बड़ा फैसला आयुष विभाग के आयुर्वेदिक शिक्षकों के लिए लिया गया. सरकार ने उनकी सेवानिवृत्ति की उम्र 60 से 65 साल करने का फैसला लिया है. इसके साथ ही कैबिनेट में और भी कई बड़े फैसले लिए गए.

बैठक में लिए गए फैसले

– स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के पौत्री और नातिन की शादी अनुदान के लिए अब 50 हजार रुपए दिए जाएंगे.

– एसडीआरएफ में अब अर्धसैनिक बलों को प्रतिनियुक्ति में लिया जाएगा.

– खाद्य आपूर्ति विभाग का नाम बदलकर खाद्य आपूर्ति नागरिक एवं उपभोक्ता विभाग कर दिया गया है.

– श्रम एवं सेवा योजन को एक कर श्रम, सेवायोजन रोजगार कौशल विकास रोजगार विभाग बनाया गया.

– कोषागार निदेशालय में तकनीकी सवर्ग में अब प्रतिनियुक्ति भी होगी.

इन प्रस्तावों पर भी लगी मुहर

– महिलाओं के नाम पर 20 लाख को बढ़ाकर 25 लाख रुपए की खरीद में स्टैंप ड्यूटी पर छूट दी जाएगी. लेकिन यह छूट 2 बार ही मिलेगी.

– आयुर्वेदिक शिक्षा में रिटारमेंट की उम्र 60 से 65 कर दिया गया.

– खनन के रेट अधिक होने पर कैबिनेट ने मुख्य सचिव को रेट कम करने के लिए समन्वय अधिकारी नियुक्त किया है.

– जनपदों में अब तहसील दिवस का आयोजन होगा. हर माह के पहले मंगलवार को तहसील दिवस आयोजित किया जाएगा.

– डेढ़ महीने में एक बार प्रभारी मंत्री को अपने जिले में जाना होगा.

– प्रत्येक सोमवार को डीएम जनता की समस्या 10 बजे से 12 बजे तक अपने ऑफिस में सुनेंगे.