फिर से पूरी दुनिया रैनसमवेयर वायरस की चपेट में, यूक्रेन सबसे ज्यादा प्रभावित

पिछले महीने ही यूरोप के कई देशों को अपनी चपेट में लेने वाला रेनसमवेयर वायरस फिर से लौट आया है. जिसका असर कई देशों में बैंकों, एयरपोर्ट और अन्य सेवाओं पर पड़ रहा है. यूक्रेन सबसे ज्यादा प्रभावित है, जहां सब कुछ ठप्प हो गया है. रूस की सबसे बड़ी ऑयल कंपनी के सिस्टम भी हैक कर लिए गए है. एक नजर इससे जुड़ी बड़ी बातों पर –

-इस वायरस का सबसे ज्यादा असर यूरोपीय देशों में पड़ा है. पिछले दिनों वानाक्राय रैंसमवेयर का अटैक हुआ था. तब भारत समेत 150 देश प्रभावित हुए थे. ताजा हमले के बारे में बताया गया है कि यह नए तरह का वानाक्राय वायरस है.

– सबसे ज्यादा प्रभावित यूक्रेन के प्रधानमंत्री ने कहा है कि वहां एटीएम से लेकर बैंकों, एयरपोर्ट और पॉवर ग्रिड तक ने काम करना बंद कर दिया है.

– रूस की सबसे बड़ी ऑयल कंपनी के अलावा लंदन से भी हैकिंग की शिकायतें मिली हैं. वहीं डब्ल्यूपीपी ऐड एजेंसी के सिस्टम हैक हो गए हैं.

– फिलहाल यूक्रेन के अलावा रूस, ब्रिटेन, डेनमार्क, फ्रांस और नॉर्वे में इस सायबर अटैक की पुष्टि हो गई है. भारत में अब तक कोई मामला सामने नहीं आया है.

– मॉस्को की सुरक्षा फर्म ग्रुप-आईबी के मुताबिक, रूस और यूक्रेन में एक साथ हमला किया गया है. नुकसान का सही-सही आंकलन अभी होना बाकी है.

यूक्रेन की एक मीडिया कंपनी पर भी हैकिंग हुई है. वहां के कर्मचारियों का कहना है कि कंप्युटर अचानक बंद हो गए और फिर एक मैसेज आया जिसमें फाइलों का दोबारा ऐक्सेस हासिल करने के लिए 300 डॉलर की मांग की गई. पिछले दिनों जिस वानाक्राय रैंसमवेयर का अटैक हुआ था, उसमें भी इसी तरह फिरौती मांगी गई थी. बड़ी संख्या में कंपनियों ने फिरौती चुकाकर अपना डाटा दोबारा हासिल किया था.