आपातकाल देश के इतिहास में काला अध्याय : पीएम मोदी

नई दिल्ली, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम की 33वीं कड़ी के जरिए देश को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने भगवान जगन्नाथ की यात्रा के उत्सव और ईद के लिए लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कुछ जहां कुछ दिलचस्प बातें शेयर कीं, वहीं आपातकाल का जिक्र करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की एक कविता भी पढ़ी. मोदी ने विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धियों हासिल करने वाले लोगों और संस्थाओं को बधाई भी दी. ये हैं पीएम मोदी के मन की बात कार्यक्रम की दस बड़ी बातें:

1. बारिश के चलते गर्मी से राहत मिली है. भगवान जगन्नाथ जी की रथ यात्रा के उत्सव को मनाया जा रहा है. विश्व के भी कुछ भागों में अब इसे मनाया जाता है. भगवान जगन्नाथ देश के गरीबों से जुड़े हुए हैं. बाबा साहब भीमराव आंबेडकर भी इस त्योहार की तारीफ करते थे, क्योंकि इसमें सामाजिक समरसता निहित है. अंग्रेजी भाषा में एक शब्द है ‘जगरनॉट’ जिसका अर्थ है ऐसा भव्य रथ जिसे कोई रोक नहीं सकता है. इस शब्द का उद्भव जगन्नाथ से ही हुआ है.

2. देश में रमजान का पवित्र महीना मनाया गया, ईद की बहुत बहुत शुभकामनाएं. पवित्र उत्सवों से प्रेरणा लेनी चाहिए. रमजान के पवित्र महीने में यूपी के मुबारकपुर गांव में एक प्रेरक घटना हुई है. यहां गांव वालों ने रमजान में शौचालय बनाने का निर्णय किया और सरकारी सहायता के रूप में मिलने वाले 17 लाख रुपये लौटा दिए. उन्होंने कहा कि इसे अन्य सुविधाओं पर खर्च किया जाए.

3. आंध्र प्रदेश के विजयनगरम जिले की में जनभागीदारी से एक बड़ा काम हुआ है. 10 मार्च को सुबह 6 बजे से 14 मार्च सुबह 10 बजे तक लोगों ने 100 घंटे तक नॉन स्टॉप काम किया और 10,000 घरेलू शौचालय बनाए. जनता और शासन ने मिलकर यह काम किया और 71 गांव ओडीएफ हो गए.

4. श्रीमान प्रकाश त्रिपाठी ने आपातकाल को याद करते हुए मुझे लिखा है कि 25 जून को लोकतंत्र के इतिहास में काला दिन था. लोक तंत्र के प्रति लोगों में जागरुकता जरूरी है. आपातकाल में एक प्रकार से देश को जेलखाने में बदल दिया गया था. जेपी समेत कई नेताओं को जेल हो गई थी. बाद में अटल जी ने उस पर एक कविता लिखी थी- ‘झुलसाता जेठ मास, सरल चांदनी उदास, सिसकी भरते सावन का अंतरघट रीत गया, एक बरस बीत गया.’

5. 21 जून 2017 को पूरी दुनिया योगमय हो गई. कौन हिंदुस्तानी होगा जिसे इस पर गर्व नहीं होगा. योग एक धागे में बंध गया है, विश्व को जोड़ने का कारण बन गया है. सभी देशों ने इसे अपनाया है. इस बार फिर योग के जरिए एक विश्व रेकॉर्ड बना है. मुझे भी लखनऊ में पहली बार बारिश में योग करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. तीन पीढ़ियों के योग करते हुए कई फोटो मिले. अब सोसायटी फिटनेस से वेलनेस की ओर जाने की दिशा में कदम रख रही है.

6. बुके की आयु बहुत कम होती है, लेकिन पुस्तक परिवार का हिस्सा बन जाती है. ब्रिटेन दौरे के दौरान मुझे क्वीन क्वीन एलिजाबेथ ने भोजन पर निमंत्रित किया था. वहां उन्होंने मुझे उनकी शादी पर महात्मा गांधी द्वारा दिया गया खादी का रूमाल दिखाया. क्वीन ने उसे आज भी संभाल कर रखा हुआ है. यह भेंट उनके इतिहास का हिस्सा बन गई.

7. तमिलनाडु के मदुरै की एक हाउसवाइफ अरुल मौजी ने एक चिट्ठी भेजी है. उन्होंने बताया कि मुद्रा योजना के जरिए उन्होंने अपना छोटा कारोबार शुरू किया. सरकार की ई मार्केट प्लेस E-GEM के जरिए उन्हें पीएमओ से ऑर्डर मिला. पीएमओ ने उनसे दो थर्मस खरीदे.

8. कोई अगर सरकार को कुछ बेचना चाहता है तो ई-जेम पर रजिस्टर कर सकता है. सभी लोगों के यह वेबसाइट विजिट करनी चाहिए, क्योंकि इसके जरिए सीधे सरकार सामान खरीदती है. इसमें दलालों की कोई भूमिका नहीं होती. इससे जुड़कर आप पारदर्शिता ला सकते हैं.

9. पिछले कुछ दिनों में खेल और विज्ञान के क्षेत्र में भारत ने काफी कुछ कर दिखाया है. दो दिन पहले ISRO ने 30 नैनो सैटलाइट लॉन्च किए. मार्स मिशन के भी 1000 दिन पूरे हो गए हैं.

10. किदांबी श्रीकांत से इंडोनेशिया ओपन जीतकर देश का मान बढ़ाया. महान धाविका पीटी ऊषा जी के एथलेटिक्स अकादमी के कार्यक्रम में भी मैं शामिल हुआ था. देश में प्रतिभाओं की कमी नहीं है. बच्चे पढ़ाई भी करें और खेल में भी अच्छा करें. अगले ओलंपिक के लिए सभी को सपने संजोने चाहिए.