अब पासपोर्ट में अंग्रेज़ी के साथ-साथ हिंदी भाषा में भी होगी जानकारी

नई दिल्ली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पासपोर्ट से जुड़ी एक बड़ी घोषणा की है. उन्होंने कहा है कि अब पासपोर्ट में अंग्रेज़ी के साथ-साथ हिंदी भाषा में भी जानकारी होगी. अभी तक पासपोर्ट पर सिर्फ अंग्रेज़ी भाषा होती थी, लेकिन अब मातृभाषा हिंदी को भी जगह मिलेगी. मंत्री सुषमा स्वराज ने यह घोषणा पासपोर्ट अधिनियम 1967 की 50वीं वर्षगांठ के मौक़े पर की. सुषमा के साथ संचार राज्यमंत्री मनोज सिन्हा, विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह और एमजे अकबर भी इस समारोह में मौजूद थे.

उन्होंने पासपोर्ट पर हिंदी भाषा में जानकारी शामिल करने के अलावा इसके आवेदन फीस में कटौती का भी एलान किया. उन्होंने कहा कि अब आवेदन फीस 10 फीसदी कम लगेगी, मगर यह छूट आठ साल से कम और 60 साल से ज़्यादा की उम्र के लोगों के लिए है. इस मौक़े पर सुषमा स्वराज ने कहा कि जब उन्होंने विदेश मंत्री का पद संभाला, तो देश में 75 पासपोर्ट सेवा केंद्र थे.

मगर अब इन केंद्रों की रफ़्तार में अप्रत्याशित तौर पर बढ़ोतरी हुई है. संचार मंत्रालय की मदद से डाक सेवा केंद्र से पासपोर्ट जारी करने की योजना शुरु की गयी है और अब डाक विभाग और पासपोर्ट विभाग मिलकर 235 केंद्र खोलने जा रहे हैं. सुषमा ने यह भी कहा कि मंत्रालय का लक्ष्य 50 किमी के दायरे में पासपोर्ट सेवा उपलब्ध कराने की है.