सीएम योगी ने गिरते लिंगानुपात को कसने के लिए मुखबिर योजना का किया शुभारंभ

लखनऊ, प्रदेश की योगी सरकार गिरते लिंगानुपात को रोकने और कन्या भ्रूण हत्या पर लगाम कसने के लिए मुखबिर योजना का शुभारंभ करने जा रही है. इस योजना के तहत बच्चे के जन्म से पहले उसके लिंग की जानकारी देने वाले नर्सिंग होम्स और अल्ट्रासाउंड केन्द्रों पर शिकंजा कसा जाएगा.राजस्थान की तर्ज पर बनी इस योजना का शुभारंभ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 24 जून को करेंगे. इस योजना के तहत ऐसे नर्सिंग होम्स और अल्ट्रासाउंड केन्द्रों की सूचना देने और उन्हें पकड़वाने वाले को सरकार दो लाख तक का इनाम देगी.

दरअसल प्रदेश में गिरते लिंगानुपात से सरकार काफी चिंतित है. नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-4 में स्थिति और भी भयावह हो गई है. प्रदेश में लिंगानुपात 922 से घटकर अब 903 पर आ गया है. यानी एक हजार लड़कों पर सिर्फ 903 लड़कियां ही रह गई हैं. इसे देखते हुए योगी सरकार ‘मुखबिर’ योजना शुरू करने जा रही है. इस योजना का शुभारंभ मुख्यमंत्री 24 जून को करेंगे.

‘मुखबिर’ योजना के तहत पकडे गए नर्सिंग होम्स और अल्ट्रासाउंड सेंटर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. यह योजना पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत शुरू की जा रही है.इस योजना में गैर सरकारी संस्थाओं की भी मदद ली जाएगी. सटीक सूचना देने वाले मुखबिरों और गर्भवती महिला को दो लाख रुपए तक का इनाम दिया जाएगा.

सबसे ख़राब लिंगानुपात वाले यूपी के जिले: जालौन-653, बागपत-763, बुलंदशहर-886, बिजनौर-800, लखनऊ-870, इटावा-813, हरदोई-803, झांसी-815, मेरठ-858