‘स्वच्छ भारत मिशन’ में उत्तराखंड का कारनामा, ग्रामीण क्षेत्र खुले में शौच से मुक्त

ग्रामीण क्षेत्र में खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) उत्तराखंड देश में चौथा राज्य बन गया है. चालू वित्तीय वर्ष में उत्तराखंड के नगरीय क्षेत्र को भी खुले में शौच से मुक्त बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.

उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों के खुले में शौच से मुक्त हो जाने के अवसर पर केन्द्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की मौजूदगी में यहां एक कार्यक्रम आयोजित किया गया.

देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, गुरुवार के दिन को उत्तराखंड के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन एवं मील का पत्थर बताते हुए त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि अब राज्य सरकार ने राज्य के शहरी क्षेत्र को भी चालू वितीय वर्ष में खुले में शौच से मुक्त करने का संकल्प लिया है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ‘स्वच्छ भारत मिशन’ के तहत खुले में शौच से मुक्ति ने महाअभियान का रूप ले लिया है.

मुख्यमंत्री ने राज्य को ग्रामीण क्षेत्र में ओडीएफ घोषित होने तथा केरल, सिक्कम तथा हिमाचल प्रदेश के बाद चौथा राज्य बनने पर इस मिशन से जुड़े सभी अधिकारियों, पंचायत प्रतिनिधियों विशेषकर ग्राम प्रधानों, गैर सरकारी संगठनों, मोटिवेटर्स तथा राज्यवासियों को बधाई दी.

केन्द्रीय पेयजल तथा स्वच्छता मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्र के ओडीएफ होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि ओडीएफ की निरन्तरता बने रहने के लिए भी प्रयासरत रहना होगा. उन्होंने उत्तराखंड के ठोस एंव तरल अवशिष्ट प्रबन्धन में भी अग्रणी रहने की आशा व्यक्त की.

इस मौके पर तोमर ने ओडीएफ मिशन को सफल बनाने में योगदान करने वाले पंचायत अध्यक्षों, अधिकारियों, ग्राम प्रधानों, मोटिवेटरों को सम्मानित भी किया.