दार्जिलिंग : GJM ने बाहरी छात्रों को स्कूल खाली करने का सुनाया फरमान, दिया 12 घंटे का वक्त

दार्जिलिंग में जीजेएम का उग्र आंदोलन जोर पकड़ता जा रहा है. अनिश्चितकालीन बंद के सातवें दिन भी विरोध प्रदर्शन जारी रहा, जिसके चलते सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा. वहीं चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल तैनात रहे. उधर जीजेएम ने स्कूलों से बाहरी छात्रों को हटाने के लिए 12 घंटे का समय दिया है. उसकी ओर से कहा गया है कि 23 जून को सुबह छह बजे से शाम छह बजे तक स्कूल खाली करा दिए जाएं. जीजेएम के वरिष्ठ नेता विनय तमांग ने कहा कि छात्रों को सिलिगुड़ी और रोंगपो केवल स्कूल बसों में जाने की अनुमति दी जाएगी. उन्होंने कहा कि पहाड़ों में स्थित स्कूलों से छात्रों को हटाने के लिए 23 जून को सुबह छह बजे से शाम छह बजे तक 12 घंटे का समय है.

क्या है मामला?

दार्जिलिंग विवाद लगातार तूल पकड़ता जा रहा है. हालांकि अभी तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है. अलग गोरखालैंड राज्य की मांग करने वाले गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने पहाड़ के विभिन्न आवासीय स्कूलों को 23 जून को 12 घंटे का समय दिया है. पुलिस और सुरक्षा बलों ने बंद प्रभावित पहाड़ों की सड़कों पर गश्त की और दार्जिलिंग के प्रवेश और निकास द्वार पर नाकेबंदी की है. जीजेएम की ओर से स्पष्ट कर दिया गया है कि इलाके से सुरक्षा बलों को हटाए जाने तक बंद जारी रहेगा.

इंटरनेट सेवाएं बंद

सूत्रों के अनुसार जिला प्रशासन ने दार्जिलिंग में इंटरनेट सेवाएं बंद रखने का फैसला किया है और इसके लिए इंटरनेट प्रोवाइडर्स को पत्र लिखकर सेवाएं बंद रखने की बात कही है. उन्होंने कहा कि चार दिन पहले रोकी गई ये सेवाएं कम से कम अगले सात दिनों तक ठप रहेंगी. वहीं प्रशासन के इस फैसले से नाखुश स्थानीय लोगों ने इसे लोकतांत्रिक आंदोलन खिलाफ दमनकारी कदम बताया है.