सिविल सेवा (प्रिलिम्स) परीक्षा में GST और केंद्रीय योजनाओं पर पूछे सवाल

नई दिल्ली, संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा रविवार को देशभर में आयोजित इस परीक्षा में लाखों उम्मीदवार शामिल हुए. इस बार सिविल सेवा (प्रिलिम्स) परीक्षा में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी), बेनामी लेन-देन और केंद्र सरकार की योजनाओं के बारे में सवाल पूछे गए हैं. प्रथम प्रश्न पत्र की परीक्षा रविवार सुबह 9:30 बजे से, जबकि दूसरे प्रश्नपत्र (सीसैट) की परीक्षा रविवार दोपहर 2:30 बजे शुरू हुई. दोनों प्रश्नपत्रों के लिए 2-2 घंटे का समय निर्धारित था. आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, परीक्षा बगैर किसी बाधा के संपन्न हुई.

उम्मीदवारों से ‘नैशनल स्किल क्वॉलिफिकेशन फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ), विद्यांजलि योजना और ‘स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन’ जैसी योजनाओं के बारे में सवाल पूछे गए. ये सभी एनडीए सरकार की शुरू की गई योजनाएं हैं. एक सवाल में पूछा गया, ‘जीएसटी लागू करने के सबसे ज्यादा क्या फायदे होने की संभावनाएं हैं?’ उम्मीदवारों से बेनामी लेनदेन (निषेध) संशोधित अधिनियम, 2016 से जुड़ा सवाल भी पूछा गया.

बहरहाल, यूपीएससी ने इस परीक्षा के लिए आवदेन करने वाले उम्मीदवारों की कुल संख्या या इस परीक्षा में शामिल हुए उम्मीदवारों की संख्या अभी सार्वजनिक नहीं की है. गौरतलब है कि पिछले साल सिविल सर्विसेज एग्जाम के लिए करीब 11.35 लाख उम्मीदवारों ने आवेदन किया था, जिनमें से 4,59,659 उम्मीदवार प्रारंभिक परीक्षा में शामिल हुए थे. मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू के बाद इसके नतीजे 31 मई को घोषित किए गए, जिसमें कुल 1099 उम्मीदवार सफल हुए.