रामकृष्ण मठ एवं मिशन के प्रमुख और मोदी के आध्यात्मिक गुरू आत्मास्थानंद का निधन

नई दिल्ली, रामकृष्ण मठ एवं मिशन के प्रमुख स्वामी आत्मास्थानंद महाराज और प्रधानंमत्री नरेन्द्र मोदी के गुरू का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया. आत्मास्थानंद महाराज 99 वर्ष के थे उन्होंने कोलकाता स्थित रामकृष्ण मिशनसेवा प्रतिष्ठान में आखिरी सांस ली. माना जाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राजनीति में जाने के लिए उन्होंने ही प्रोत्साहित किया था. आत्मास्थानंद के निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने दुख जाहिर किया है. उन्होंने इसे व्यक्तिगत क्षति बताया है.

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, स्वामी आत्मास्थानंद जी के पास अपार ज्ञान था. उनके आदर्श व्यक्तित्व को आगे की पीढ़ियां याद रखेंगी. मैं जब भी कोलकाता जाता था. मैं स्वामी आत्मास्थानंद जी का आशीर्वाद लेता था. वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी उनके निधन के कुछ घंटे पहले ही उनका हालचाल जानने पहुंची थी.

उन्होंने भी स्वामीजी के निधन पर दुख जाहिर किया. ममता बनर्जी ने कहा स्वामीजी के निधन की खबर सुनकर दुख हुआ. आत्मास्थानंद स्वामी लंबी बीमारी के कारण फरवरी 2015 से अस्पताल में भर्ती थी. उनकी गिरती सेहत को देखते हुए उन्हें शनिवार रात से वेंटिलेटर पर रखा गया था. उनका अंतिम संस्कार आज किया जाएगा.