दिल थाम कर बैठें, रविवार को सुपर संडे बनाएगा भारत-पाकिस्तान का महामुकाबला

क्रिकेट के प्रशंसक जिस बात की दुआ कर रहे थे वही हुआ. चैंपिंयस ट्रॉफी के फाइनल में भारत और पाकिस्तान की भिड़ंत होगी. दोनों देशों के बीच बॉर्डर पर दिखने वाली टेंशन जैसा ही नजारा क्रिकेट के मैदान पर भी नजर आता है. हालांकि खेल और बॉर्डर को एक स्तर पर नहीं रखा जा सकता, लेकिन खेल के मैदान पर भी इन दोनों देशों के खिलाड़ियों में जबरदस्त टक्कर देखने को मिलती है. क्रिकेट स्टेडियम दर्शकों से खचाखच भर जाते हैं और दोनों देशों में प्रशंसक टीवी के सामने कुर्सी पर चिपक चाते हैं. खासतौर पर क्रिकेट मैच में तो भावनाएं चरम पर पहुंच जाती हैं और हर चौके-छक्के या विकेट पर जश्न व शोक मनाया जाता है.

इन दो परंपरागत प्रतिद्वंद्वियों के बीच क्रिकेट का मुकाबला हो तो सड़कें सुनी पड़ जाती हैं, लेकिन आयोजकों की चांदी हो जाती है. भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट टीमें भले ही इन दो देशों में भिड़ें या किसी अन्य देश के मैदान पर, प्रशंसक वहां पहुंच ही जाते हैं. भारत-पाकिस्तान का मुकाबला देखने के लिए तो प्रशंसक दोगुनी कीमत पर भी टिकट खरीदने को तैयार हो जाते हैं और आयोजकों की पोटली भर जाती है. यही नहीं भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबले का प्रसारण करने वाले टीवी चैनल भी मालामाल हो जाते हैं. बता दें कि इसी चैंपियंस ट्रॉफी का ग्रुप बी में भारत-पाकिस्तान मुकाबला सबसे अधिक देखा गया मुकाबला रहा. 10-10 सैकेंड की विज्ञापन स्लॉट के लिए प्रायोजक करोड़ों रुपये के विज्ञापन देकर स्लॉट बुक कराते हैं.

आप भी क्रिकेट के प्रशंसक हैं तो भारत-पाकिस्तान के बीच मुकाबले का इंतजार आपको भी रहता होगा. दोनों टीमों के बीच चैंपियंस ट्रॉफी में खेला गया पिछला मुकाबला तो भारत ने आसानी से जीत लिया था. आईसीसी मुकाबलों में भारत का पलड़ा हमेशा ही भारी रहा है. दोनों ही टीमें अपने-अपने सेमीफाइनल मुकाबलों में शानदार जीत दर्ज करके फाइनल में पहुंच चुकी हैं. अब दोनों टीमों के प्रशंसकों को 18 जून को एक बार फिर भारत-पाकिस्तान के बीच रोमांचक मुकाबले की उम्मीद होगी.

ऐसे तय हुआ मुकाबला
सेमीफाइनल में बुधवार 14 जून को पाकिस्तान ने मेजबान इंग्लैंड को हराया. इस मुकाबले में पाकिस्तान ने इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम को हरा दिया, जबकि पाकिस्तान को उसके मुकाबले कमजोर माना जाता है और आईसीसी रैंकिंग भी इस बात की तस्दीक करती है. इंग्लैंड के खिलाफ दमदार प्रदर्शन करने के बाद अब पाकिस्तान के हौसले बुलंद होंगे. बता दें कि सेमीफाइनल से पहले श्रीलंका के खिलाफ पाकिस्तान ने अपना आखिरी मुकाबला श्रीलंका के खिलाफ खेला था और उस मैच में टीम ने बेहद औसत दर्जे का खेल दिखाया था. लेकिन श्रीलंका ने उस मैच में पाकिस्तान से भी घटिया क्रिकेट खेला था, इसलिए पाकिस्तान ने बड़ी मुश्किल से वह मैच जीता था. खैर अब फाइनल में पाकिस्तान का मुकाबला विराट कोहली की मजबूत टीम से होगा.

सेमीफाइनल में भारत का मुकाबला अपेक्षाकृत कमजोर नजर आने वाली बांग्लादेश से था. लेकिन इस टीम को कमजोर समझने की गलती अक्सर टीमों को भारी पड़ती रही है और टीम इंडिया ने ऐसी गलती नहीं की. इसी चैंपियंस ट्रॉफी में बांग्लादेश ने न्यूजीलैंड जैसी मजबूत टीम को हराकर बाहर का रास्ता दिखा चुकी थी, ऐसे में छोटी सी भी गलती भारी पड़ सकती थी. बता दें कि 2007 के विश्वकप में इसी बांग्लादेश की टीम ने ग्रुप स्टेज में टीम इंडिया को हराकर स्वदेश लौटा दिया था. बाद में क्वार्टर फाइनल में दक्षिण अफ्रीका को भी बांग्लादेश ने ही मात दी थी. यही नहीं 2011 व 2015 के विश्वकप में भी यह टीम इंग्लैड को पटखनी दे चुकी है.

इंग्लैंड को हराकर पाकिस्तान और बांग्लादेश को हराकर भारत टीम फाइनल में पहुंची है. अब क्रिकेट के प्रशंसकों के लिए 18 जून को सुपर संडे होगा. दोनों टीमों के बीच आगामी रविवार को लंदन के किंग्सटन ओवल में एक और महामुकाबला देखने को मिलेगा.

बता दें कि किसी भी आईसीसी ईवेंट में पाकिस्तान की भारत पर जीत का सिलसिला 2004 में शुरू हुआ. साल 2004 की चैंपियंस ट्रॉफी में इंग्लैंड के बर्मिंघम में खेल गए मैच में पाकिस्तानी टीम ने टीम इंडिया को तीन विकेट से हराया था. इसके बाद साल 2009 में दक्षिण अफ्रीका के सेंचुरियन में खेले गए मैच में पाकिस्तान ने भारत को 54 रन से हरा दिया था. साल 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी और इस बार इंग्लैंड में खेले गए एक मुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को हराकर रिकॉर्ड बराबर कर लिया है. यानी पिछले दोनों मुकाबले भारत ने जीते हैं और मोमेंटम भारत के साथ है. इस तरह से दोनों टीमें चैंपियंस ट्रॉफी में 2-2 की बराबरी पर हैं. अब दोनों टीमें फाइनल में हैं तो दोनों टीमें बढ़त लेने की भरपूर कोशिश करेंगी.