रुड़की : बड़ी राजनीतिक पार्टी की महिला नेता चला रही थी सेक्स रैकेट, पार्टी से निष्कासित

रुड़की के प्रेमनगर में एक बड़ी पार्टी की महिला नेता सेक्स रैकेट का संचालन करा रही थी. पुलिस ने महिला नेता सहित सभी पांचों आरोपियों पर मुकदमा दर्ज किया है. वहीं, इस दौरान मौके से मिली युवती ने इन लोगों पर नौकरी दिलाने के नाम पर होटल में ले जाकर दुष्कर्म कराने का भी आरोप लगाया. पुलिस ने बताया कि फरार सेक्स रैकेट संचालिका की तलाश की जा रही है.

कोतवाली में प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीओ स्वप्न किशोर सिंह ने बताया कि एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल को सूचना मिली की प्रेमनगर स्थित एक मकान में सेक्स रैकेट चल रहा है. इस पर प्रभारी इंस्पेक्टर साधना त्यागी ने पुलिस टीम के साथ मकान पर छापा मारते हुए बॉबी निवासी तांशीपुर कोतवाली मंगलौर तथा यशपाल निवासी थिथकी मंगलौर तथा देह व्यापार में संलिप्त दो महिलाओं को भी गिरफ्तार कर लिया.

इनमें से एक महिला सहारनपुर तथा दूसरी रुड़की की रहने वाली थी. पुलिस टीम ने सहारनपुर की एक लड़की को भी इनके कब्जे से मुक्त कराया. सीओ स्वप्न किशोर सिंह ने बताया कि इस युवती को नौकरी का झांसा देकर यहां पर लाया गया था.

युवती ने पूछताछ में बताया कि उसे महिला नेता ने डरा धमककार देह व्यापार के लिए यहां भेजा था. युवती ने बताया कि एक होटल में भी उससे दुष्कर्म किया गया. सीओ ने बताया कि इस मामले में महिला नेता सहित सभी पांचों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

सेक्स रैकेट का संचालन करने वाली महिला नेता फरार है. सीओ ने बताया कि इनके कब्जे से मुक्त कराई गई युवती का मेडिकल कराया गया है. जल्द ही कोर्ट में उसके बयान दर्ज कराए जाएंगे.

पुलिस की टीम गणेशपुर क्षेत्र स्थित एक होटल में भी पहुंची. युवती ने जिस होटल में दुष्कर्म होने की बात कही थी पुलिस की टीम ने वहां पर जाकर मामले की जांच पड़ताल की. हालांकि पुलिस अभी इस होटल में दुष्कर्म के मामले में खुलकर नहीं बोल रही है. पुलिस इसे जांच का हिस्सा बता रही है.

सेक्स रैकेट के मामले में शहर की एक और महिला का नाम सामने आया है. महिला नेता के साथ रहने वाली इस महिला को भी पुलिस ने चिन्हित किया है. यह महिला सुनहरा रोड निवासी बताई गई है. पुलिस का कहना है कि आरोपियों के बयान के आधार पर इस महिला का नाम भी मुकदमे में शामिल किया जाना है.

पार्टी ने छह साल के लिए किया निष्कासित
सेक्स रैकेट चलाने वाली नेता राज्य में सत्तारूढ़ बीजेपी से जुड़ी थी. इस घटना के सामने आने के बाद बीजेपी जिलाध्यक्ष डॉ. कल्पना सैनी ने बताया कि हेमा रावल नाम की नेता को पार्टी से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है. जिलाध्यक्ष ने बताया कि हेमा की पार्टी की प्राथमिक सदस्यता भी निरस्त की गई है. इसका पार्टी से अब कोई लेना-देना नहीं है.

बताया जा रहा है कि इससे पहले भी कई बार हेमा रावल बीजेपी के कई नेताओं से अभद्रता कर चुकी है. उसका नाम सेक्स रैकेट में सामने आने के बाद पार्टी के लोगों में भी हड़कंप मचा है. कुछ दिनों पहले बीजेपी के ही एक नेता से फैसले के नाम पर धमकी देने के आरोप में गंगनहर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था. वहीं हेमा रावल ने भी बीजेपी नेता पर सिविललाइंस कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था.