पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मध्यप्रदेश के किसानों के लिए हरिद्वार में धरना दिया

गैरसैंण को लेकर गुरुवार को उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में सांकेतिक उपवास करने वाले उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शुक्रवार को हरिद्वार में हर की पैड़ी पर मध्य प्रदेश में मारे गए किसानों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की.

पूर्व मुख्यमंत्री और उनके सैकड़ों समर्थकों ने हर की पैड़ी पहुंचकर मौन व्रत धारण किया और मध्य प्रदेश में किसानों के साथ हुई हिंसा की निंदा करते हुए मृत किसानों को मौन व्रत के जरिए श्रद्धांजलि दी.

हर की पैड़ी के मालवीय द्वीप पर मौनव्रत और धरने के बाद हरीश रावत ने राज्य से लेकर केंद्र और मध्य प्रदेश तक की बीजेपी सरकारों को हर मोर्चे पर विफल बताया और कहा कि दलित उत्पीड़न के साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न की घटनाए भी लगातार बढ़ती जा रही हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा तट पर उनका धरना उन किसानों के लिए है जो मध्य प्रदेश में पुलिस बर्बरता का शिकार हुए हैं. उन्होंने कहा कि दलितों पर अत्याचार हो रहे हैं और बाबा साहेब की मूर्तियों को तोड़ा जा रहा है.

रावत ने कहा कि वह शीघ्र ही प्रदेश आलाकमान की सहमति से रुड़की में किसानों के बकाया गन्ना मूल्य भुगतान को लेकर एक दिन का अनशन करेंगे.