गैरसैंण के मुद्दे पर हरीश रावत का सांकेतिक उपवास, आज हरिद्वार में गंगा किनारे करेंगे ‘तप’

बजट सत्र को गैरसैंण में न कराने के विरोध में उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने गुरुवार को सांकेतिक उपवास किया. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह, राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा तथा अन्य पार्टी नेताओं और विधायकों के साथ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत हिम पैलेस होटल से पैदल चलकर विधाानसभा की ओर निकले.

हांलांकि, उनके काफिले को पुलिस ने रिस्पना पुल के पास लगे बैरीकेड पर रोक दिया गया. हरदा अन्य नेताओं के साथ वहीं सड़क पर दरी बिछाकर बैठ गए और एक घंटे का सांकेतिक उपवास किया.

इस मौके पर, हरीश रावत ने कहा कि बजट सत्र को गैरसैंण में कराने का निर्णय विधानसभा के संकल्प के रूप में लिया गया था और बीजेपी सरकार ने बजट सत्र वहां नहीं करके उत्तराखंड का अपमान किया है. उन्होंने इसे गैरसैंण की भावना के साथ ही शहीदों का भी अपमान बताया.

हरदा ने मध्य प्रदेश की बीजेपी सरकार पर किसानों की हत्या करने का भी आरोप लगाया और कहा कि अच्छे दिन बंदूक की गोली के रूप में किसानों को मिल रहे हैं.

उन्होंने कहा कि वह कल हरिद्वार में हर की पैड़ी पर गंगा तट पर बैठकर तप करेंगे और मृत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना करेंगे. उपवास स्थल पर किसानों की आत्मा की शांति के लिए मौन भी रखा गया.