भवाली सैनेटोरियम में बनेगा मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल, क्षेत्र के लोगों को मिलेगी सुविधा

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने मंगलवार को राज्य सरकार से भवाली स्थित सैनेटोरियम में एक नया मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल स्थापित करने की संभावनाएं तलाश करने को कहा.

दीपक रूवाली द्वारा दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया तथा न्यायमूर्ति यूसी ध्यानी की एक खंडपीठ ने अपर सचिव, स्वास्थ्य पंकज पांडे को सरकार से इस संबंध में निर्देश लेने को कहा कि क्या नैनीताल के निकट स्थित भवाली सैनेटोरियम में मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल स्थापित किया जा सकता है.

वकील विपुल शर्मा ने याचिका में कहा, ‘लंबे समय से उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में मेडिकल सुविधाओं की कमी बनी हुई है. रामगढ़ से लेकर विनायक तक का पूरा क्षेत्र मेडिकल सुविधाओं के लिए नैनीताल के अस्पतालों पर निर्भर है. क्षेत्र के निवासियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए न केवल विशेषज्ञ डॉक्टरों की बल्कि एक मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल की भी जरूरत है.’

इससे पहले हाईकोर्ट ने नैनीताल के बीडी पांडे अस्पताल के निरीक्षण तथा क्षेत्र में मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल की जरूरत के संबंध में मुख्य सचिव के निर्देशन में एक उच्चाधिकार समिति बनाई थी.

समिति की सिफारिश स्वीकार करते हुए सरकार ने अस्पताल की वर्तमान इमारत की मरम्मत कर उसे मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल में बदलने का निर्णय लिया था.

आधुनिक सुविधाओं से युक्त नई इमारत बनाने की जगह पुरानी इमारत की मरम्मत करने के सरकार के निणय पर सवाल उठाते हुए खंडपीठ ने भवाली सैनेटोरियम में ही नया मल्टी स्पेशियलिटी अस्पताल बनाने का सुझाव देते हुए सरकार से इस संबंध में संभावनाएं तलाशने को कहा है.