कांग्रेस की बुकलेट में ‘भारत अधिकृत कश्मीर’, बवाल हुआ तो पार्टी ने मांगी माफी

कांग्रेस पार्टी ने शनिवार को तब एक बड़ी गलती कर दी, जब उसके वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने एक बुकलेट जारी की. इस बुकलेट के नक्शे में जम्मू कश्मीर को भारत अधिकृत कश्मीर के तौर पर दिखाया गया है. सत्ताधारी बीजेपी ने इसकी कड़ी आलोचना की.

राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद लखनऊ में थे जहां उन्होंने मोदी सरकार पर उसकी ‘विफलताओं’ को लेकर हमला बोला. उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में एक बुकलेट जारी की. इसमें एक मानचित्र था, जिसमें कश्मीर को भारत अधिकृत कश्मीर के रूप में दिखाया गया था.

बीजेपी ने तुरंत ही इसको लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा. वहीं, कांग्रेस ने ‘बड़ी गलती’ के लिए माफी मांगी और स्वीकार किया कि यह सुनिश्चित करना उसकी जिम्मेदारी थी कि ऐसा नक्शा जारी नहीं हो. पार्टी ने यद्यपि दावा किया कि बीजेपी ने भी ऐसा ही नक्शा अपनी वेबसाइट पर जारी किया था, लेकिन अपनी गलती कभी नहीं मानी.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘यह न केवल खेदजनक है बल्कि हैरान करने वाला है कि आजाद जैसे कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता कश्मीर का एक ऐसा नक्शा रख कर रहे हैं, जिसमें उसे भारत अधिकृत कश्मीर बताया गया है. उन्होंने कहा, ‘संसद का प्रस्ताव कहता है कि यहां तक कि पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भी भारत का हिस्सा है. कश्मीर को भारत अधिकृत कश्मीर के तौर पर दिखाकर कांग्रेस पार्टी ने न केवल अलगाववादियों को खुश किया है, बल्कि सीमा पार उनके संरक्षक भी खुश हो गए होंगे. यह निंदनीय है.’

उत्तर प्रदेश में मंत्री एवं प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने आरोप लगाया कि ऐसा नक्शा जारी करना ‘देशद्रोह’ के बराबर है और कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यह पहली बार नहीं है कि कांग्रेस पाकिस्तान की भाषा बोल रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ‘देशद्रोहियों’ से सहानुभूति दिखाने के लिए जेएनयू गए थे और पार्टी ने नियंत्रण रेखा पार किए गए सर्जिक स्ट्राइक की प्रमाणिकता पर भी सवाल उठाए थे.

कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि यह ‘मुद्रण की गलती’ है लेकिन यह भी स्वीकार किया कि यह उनकी पार्टी की जिम्मेदारी थी कि यह सुनिश्चित करे कि ऐसी गलती नहीं हो.

उन्होंने कहा, ‘हम इसके लिए माफी मांगते हैं और यह सुनिश्चित करेंगे कि ऐसी गलती दोबारा नहीं हो.’ उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि 28 मार्च 2014 को उसने अपनी वेबसाइट पर ऐसा ही नक्शा दिखाया था. उन्होंने दावा किया कि उसी वर्ष सितम्बर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में चीन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर के दौरान एक नक्शा जारी किया गया था, जिसमें अरुणाचल प्रदेश को चीन का हिस्सा दिखाया गया था.

उन्होंने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस के बीच अंतर यह है कि ‘हम अपनी गलती स्वीकार कर लेते हैं लेकिन वे नहीं करते.’