काशीपुर : बैंक के चेयरमैन पर बलात्कार का आरोप लगा, मांगी 25 लाख की रंगदारी

काशीपुर, काशीपुर अर्बन को ऑपरेटिब बैंक के चेयरमैन पर एक महिला समेत करीब आधा दर्जन लोगों द्वारा बलात्कार का आरोप लगाकर जान से मारने की धमकी देते हुए 25 लाख रूपये की रंगदारी मांगने के हाईप्रोफाइल मामले का पटाक्षेप करते हुए पुलिस ने आरोपियों में से एक महिला व उसके पति को गिरफ्तार कर लिया है.गिरफ्तार दंपत्ति ने चेयरमैन को जानने व पहचानने से साफ इंकार कर दिया है.

बता दें कि काशीपुर अर्बन को ऑपरेटिब बैंक के चेयरमैन व कुंडेश्वरी निवासी चौ. प्रताप सिंह पुत्र गोविन्द सिंह ने बीती 19 अप्रैल को कुंडेश्वरी रिपोर्टिंग चौकी पुलिस में करीब आधा दर्जन लोगों के खिलाफ तहरीर देते हुए उनपर बलात्कार, जान से मारने की धमकी व 25 लाख रूपये मांगे जाने का आरोप लगाया था. चौकी पुलिस ने मामले को वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के संज्ञान में डाले जाने के बाद जांच के दौरान उक्त आरोप सही पाये जाने पर चौकी पुलिस ने विपुल कुमार पुत्र कटार सिंह, प्रियंका चौधरी पत्नी विपुल कुमार, सत्येन्द्र चौधरी पुत्र महाराज सिंह, संगीता व उसके पति दुल्ली सिंह पुत्र इन्दर सिंह समेत आधा दर्जन लोगों के खिलाफ विभिन्न मामलों में मुकदमा दर्ज कर शेष आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है.

मामले की जांच कर रहे चौकी प्रभारी दिनेश फर्त्याल, महिला उपनिरीक्षक राधिका भंडारी व कांस्टेबल पूरन सिंह ने बताया कि यूपी के कस्बा गजरौला में एक दबिश के दौरान जिला मुजफ्फरनगर थाना मोदीनगर के ग्राम लंकापुरी निवासी दुल्ली सिंह व उसकी पत्नी संगीता को गिरफ्तार कर लिया है.अपर पुलिस अधीक्षक डा. जगदीश चन्द्र ने कोतवाली में आज (शुक्रवार) इस हाईप्रोफाइल मामले का पर्दाफाश करते हुए बताया कि संगीता व उसके पति दुल्ली सिंह ने चौ. प्रताप सिंह को जानने व पहचानने से साफतौर पर इंकार कर दिया है. पूछताछ में दोनों पति पत्नी ने बताया कि विपुल कुमार द्वारा उनसे कुछ कागजों पर हस्ताक्षर कराने के बाद उनसे चौ. प्रताप सिंह से 25 लाख रूपये की डिमांड करने को कहा गया था जिसकी एवज में उन्हें भी मोटी रकम दिये जाने का भरोसा दिया गया था.

एएसपी ने बताया कि पूर्व में विपुल के खिलाफ मेरठ के परिवार न्यायालय में एक विवाद दर्ज है. पुलिस ने दोनों आरोपियों को धारा 386, 388, 389, 120वी के तहत चालान कर दोनों को न्यायालय में पेश किया, जहां से अदालत के आदेश के बाद उक्त दंपत्ति को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. बताते चलें कि अर्बन बैंक के चेयरमैन चौ. प्रताप सिंह के विरुद्ध बलात्कार व उनसे मोटी रकम मांगे जाने का मामला नगर क्षेत्र में काफी चर्चा का विषय बना हुआ है. एएसपी ने बताया कि फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है जिन्हें शीघ्र गिरफ्तार कर लिया जायेगा.