करारी हार के बाद अब जागेश्वर धाम पहुंचकर पार्टी नेताओं को जगाएगी कांग्रेस

Jageshwar Temple, Almora

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद अब कांग्रेस ‘भोले’ बाबा की शरण में जाएगी. प्रत्येक माह होने वाली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की बैठक 10 अप्रैल को जागेश्वर धाम में होगी. बैठक में हार पर मंथन के साथ ही कांग्रेस को पुनर्जीवित करने के रोडमैप पर भी बात होने की संभावना है.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी की बैठक प्रत्येक माह की 24 तारीख को होती है. 11 मार्च को आए अप्रत्याशित चुनाव परिणाम ने कांग्रेस के आला नेताओं की सांसें थाम दी थीं. कांग्रेस भी नतीजों को सहज ढंग से पचा नहीं पा रही थी.

कांग्रेस नेताओं ने हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने की भी कोशिश की. हार के बाद भी कांग्रेस में आपसी गुटबंदी थमी नहीं. नेता प्रतिपक्ष को लेकर कांग्रेस में खेमेबंदी होती रही. करण महरा को नेता प्रतिपक्ष बनवाने के लिए एक गुट सक्रिय था.

सूत्रों की मानें तो 10 अप्रैल को प्रदेश कांग्रेस कमेटी की बैठक से पहले कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुमाऊं के प्रत्येक जिले में जिला कार्यकारिणी के साथ बैठक करेंगे. जिला कार्यकारिणी और पीसीसी की बैठक में हार पर मंथन करने के साथ ही कांग्रेस को दोबारा कैसे पुनर्जीवित किया जाए और मुद्दे उठाकर जनता के साथ खड़े होने पर रणनीति बनेगी.

साथ ही हार के बाद हतोत्साहित कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल कैसे बढ़ाया जाए इस पर भी विचार होगा. माना जा रहा है कि जागेश्वर धाम में भगवान शिव का आशीर्वाद लेकर कांग्रेस 2019 और 2022 में नए उत्साह के साथ मैदान में उतरेगी.