हादसों का मंगलवार : कुमाऊं में अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में सात की मौत

रोज-रोज होने वाले एक्सीडेंट और उनमें होने वाली जानमाल के नुकसान की खबरों के सामने आने से लगता है जैसे पहाड़ की सड़कों पर वाहन काल बनकर दौड़ रहे हैं. कुमाऊं में मंगलवार को तीन अलग-अलग हादसों में दंपति और मां-बेटों सहित सात लोगों की मौत हो गई.

किच्छा से मिली खबर के मुताबिक रुद्रपुर के वार्ड नंबर-4 भदईपुरा निवासी सुनील यादव (22), भारत यादव (30) पुत्रगण स्व. भान सिंह यादव अपने रिश्तेदार आशू की बीमारी का हाल जानने के लिए मंगलवार सुबह सात बजे बाइक से बरेली गए थे. उनकी मां द्रौपदी यादव (50) भी उनके साथ थीं.

वापसी में शाम करीब चार बजे तीनों बाइक से रुद्रपुर की ओर आ रहे थे कि किच्छा के आदित्य चौक से कुछ दूरी पर बेकाबू डंपर तीनों को रौंदता हुआ एक खोखे में जा घुसा और खोखा स्वामी अय्यूब अहमद (40) पुत्र अजीज अहमद निवासी वार्ड छह किच्छा को भी रौंद दिया. इससे चारों की मौके पर ही मौत हो गई.

ऊधर चंपावत से 15 किमी दूर स्वांला के पास ट्रक और ऑल्टो कार आपस में टकराने के बाद 50 मीटर गहरी खाई में जा गिरे. कार के ऊपर ट्रक के गिरने से इसमें सवार लोगों को कटर से निकालना पड़ा. हादसे में ऑल्टो कार में सवार दिगालीचौड़ के पास बसेड़ी गांव निवासी केशव सिंह उर्फ किशोर काजी (45) और उनकी पत्नी विमला देवी (42) की दबने से मौत हो गई, जबकि पांच अन्य घायल हो गए.

अल्मोड़ा जिले में रानीखेत के पास उपराड़ी में हल्द्वानी से रेत लेकर रानीखेत की तरफ आ रहा डंपर सोमवार रात खाई में जा गिर गया. दुर्घटना में डंपर चालक ताड़ीखेत में दुभणा गांव निवासी भीम सिंह उर्फ सोनू (29) पुत्र मोहन सिंह की मौके पर ही मौत हो गई.