IND vs AUS: 4th Test: जडेजा के हरफनमौला प्रदर्शन से ऑस्ट्रेलिया बैकफुट पर, बैट-बॉल से किया शानदार प्रदर्शन

 

हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ (एचपीसीए) स्टेडियम में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रहे चौथे और अंतिम टेस्ट मैच के दोनों दिन दोनों टीमों के बीच जोरदार संघर्ष देखने को मिला, लेकिन तीसरे दिन के खेल में टीम इंडिया का शिकंजा पुरी तरह से ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजो पर कसा हुआ दिखा .ऐसा ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा के करिश्माई प्रदर्शन के कारण संभव हुआ है. जडेजा ने बैटिंग के बाद गेंद से भी धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए ऑस्ट्रेलिया को बैकफुट पर धकेल दिया. इसमें तेज गेंदबाज उमेश यादव और रविचंद्रन अश्विन का भी अहम योगदान रहा. दूसरी पारी में पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम 137 रन पर ही सिमट गई.भारत को इस मैच और श्रृंखला पर कब्जा जमाने के लिए अब चौथी पारी में 106 रनों की दरकार है.

तीसरे दिन का खेल ख़त्म होने तक भारत ने बिना विकेट खोये 19 रन बना लिए है . चौथे दिन भारत को मैच और सीरीज जीतने के लिए 87 और रनों की दरकार है.

भारत ने ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी के स्कोर 300 रनों के जवाब में अपनी पहली पारी में 332 रन बनाते हुए 32 रनों की बढ़त की ले ली थी.

तीसरे दिन दूसरे सत्र में अपनी दूसरी पारी खेलने उतरी ऑस्ट्रेलिया टीम  भारतीय गेंदबाजों के सामने टिक नहीं सकी और चायकाल तक उसने 92 रनों पर ही अपने पांच विकेट गंवा दिए थे.दिन के आखिरी सत्र में वह अपने खाते में 45 रन ही जोड़ पाने में सफल रही और पूरी टीम 137 रनों पर पवेलियन लौट गई.

टीम के लिए दूसरी पारी में सबसे ज्यादा 45 रन ग्लेन मैक्सवेल ने बनाए

भारत की तरफ से उमेश यादव, रवींद्र जडेजा, रविचंद्रन अश्विन ने तीन-तीन विकेट लिए.भुवनेश्वर कुमार को एक विकेट मिला.

ऑस्ट्रेलिया का विकेट पतन : 1/10 (डेविड वॉर्नर- 6 रन), 2/31 (स्टीव स्मिथ- 17 रन), 3/31 (मैट रेनशॉ- 8 रन), 4/87 (पीटर हैंड्सकॉम्ब- 18 रन), 5/92 (शॉन मार्श- 1), 6/106 (ग्लेन मैक्सवेल- 45 रन), 7/121 (पैट कमिन्स- 12 रन), 8/121 (स्टीव ओकीफी- 0), 9/122 (नैथन लियोन- 0), 10/137 (जॉश हेजलवुड- 0)

भारत को पहली पारी में बढ़त दिलाने में जडेजा ने अहम भूमिका निभाई. उन्होंने 67 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेलने के साथ ही रिद्धिमान साहा (31) के साथ सातवें विकेट के लिए 96 रनों की साझेदारी निभाई. उनके अलावा लोकेश राहुल (60), चेतेश्वर पुजारा (57) और कप्तान अजिंक्य रहाणे ने (46) अहम योगदान दिया. भारत ने तीसरे दिन की शुरुआत छह विकेट के नुकसान पर 248 के स्कोर के साथ की थी.
टीम इंडिया का विकेट पतन : 1/21 (मुरली विजय- 11 रन), 2/108 (लोकेश राहुल- 60 रन), 3/157 (चेतेश्वर पुजारा- 57 रन), 4/167 (करुण नायर- 5 रन), 5/216 (अजिंक्य रहाणे- 46), 6/221 (आर अश्विन- 30), 7/317 (रवींद्र जडेजा- 63 रन), 8/318 (भुवनेश्वर कुमार- 0), 9/318 (ऋद्धिमान साहा- 31), 10/332 (कुलदीप यादव- 7)

आॅस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में 300 रन बनाए थे.

रविवार के स्कोर छह विकेट पर 248 रनों से आगे खेलने उतरी भारतीय टीम ने सोमवार को पहले सत्र की समाप्ति तक अपने खाते में 84 रन जोड़े.

पहले दिन के नाबाद बल्लेबाज साहा और जडेजा ने सातवें विकेट के लिए 96 रनों की साझेदारी कर टीम का स्कोर 300 के पार पहुंचाया, लेकिन पैट कमिंस ने जडेजा को बोल्ड आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा.

जडेजा ऐसे तीसरे हरफनमौला खिलाड़ी हैं, जिन्होंने किसी एक सत्र में 500 से अधिक रन बनाए हैं और 50 से अधिक विकेट लिए हैं. जडेजा से पहले कपिल देव ने 1979-80 और मिशेल जॉनसन ने 2008-09 सत्र में यह कारनामा किया था