सेल्फी के शौक ने ली जान, पांव फिसला और अलकनंदा नदी में बह गए भाई-बहन

रुद्रप्रयाग में शिवानंदी के पास एक भाई बहन उस समय अलकनंदा नदी में बह गए, जब वह सेल्फी ले रहे थे. दोनों को बहता देख लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी. पुलिस की गोताखोर टीम ने देर शाम तक शिवानंदी से लेकर रुद्रप्रयाग तक कई स्थानों पर खोजबीन अभियान चलाया, लेकिन अभी तक दोनों का पता नहीं चल सका.

जिले के गुप्तकाशी क्षेत्र की ग्राम सभा ब्यूंग के साहिल (17 वर्ष) पुत्र जगदीश सेमवाल व सावली (13 वर्ष) पुत्री जगदीश सेमवाल रविवार दोपहर को रुद्रप्रयाग से बद्रीनाथ मार्ग पर गोचर की ओर 13 किमी दूर शिवानंदी के ठीक सामने निरवाली गांव के नीचे अलकनंदा नदी के किनारे सेल्फी ले रहे थे. इस बीच अचानक साहिल का पांव फिसल गया. इससे दोनों एक साथ अलकनंदा नदी में गिर गए और बहने लगे.

सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक पीएन मीणा ने पुलिस उपाधीक्षक श्रीधर प्रसाद बडोला के नेतृत्व में पुलिस की पांच टीमें गठित कीं. फायर सर्विस, एसडीआरएफ, कोतवाली पुलिस व चौकी घोलतीर की टीमें विभिन्न स्थानों पर खोजबीन में जुटी हुई हैं. आईटीबीपी व पुलिस की गोताखोर टीम भी इस अभियान में जुटी हुई हैं.

पुलिस टीम ने शिवानंदी के सामने पुलिस लाइन रतूडा, सुमेरपुर, कोटेश्वर, संगम, जवाड़ी बाईपास में नदी में खोजबीन की, लेकिन देर शाम तक दोनों कोई पता नहीं चल पाया.

रुद्रप्रयाग के कोतवाल इंस्पेक्टर बीएस पंवार ने बताया कि फोटो खीचते समय वह नदी में बह गए, उनके साथ एक छोटी बच्ची और थी, जबकि आस पास के लोगों ने भी देखा.

जगदीश सेमवाल आईटीबीपी में तैनात हैं, जबकि साहिल व सावली अपनी बुआ के यहां अपने गांव ब्यूंग से निरवाली आए हुए थे. पेपर समाप्त होने के बाद छुटि्टयों में वह यहां घूमने आए थे. वहीं इस घटना के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.