लंदन : ब्रिटिश संसद के बाहर ‘आतंकवादी’ हमला, पांच की मौत

लंदन… ब्रिटिश संसद पर बुधवार को हुए हमले की विफल कोशिश में मरने वालों की संख्या बढ़कर पांच हो गई है. इसमें हमलावर भी शामिल है. हमले में करीब 40 लोग घायल हो गए. ब्रसेल्स हमले की पहली बरसी (22 मार्च) पर आतंकवादियों ने बुधवार को ब्रिटिश संसद को निशाना बनाने का प्रयास किया. यह हमला स्थानीय समयानुसार दोपहर करीब 2.30 बजे (भारतीय समयानुसार रात करीब आठ बजे) किया गया था.

खबरों के अनुसार एक व्यक्ति ने मुख्य द्वार से संसद में घुसने की कोशिश की और पुलिस अधिकारी को चाकू मार दिया. वहां मौजूद अधिकारियों ने उसे चेतावनी दी जिसके बाद कई राउंड गोलियां चलीं.

कार सवार हमलावर ने पहले टेम्स नदी पर बने वेस्टमिंस्टर ब्रिज पर पैदल चल रहे कई लोगों को कुचल दिया. इस क्रम में कुछ लोग कथित तौर पर नदी में जा गिरे. वह सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए संसद की ओर बढ़ा. उसके हाथों में करीब ‘सात से आठ इंच लंबा चाकू’ था. पुलिस ने उसे रोका, जिस पर उसने पुलिसकर्मी को चाकू मार दिया. इसके बाद वहां तैनात अन्य सुरक्षाकर्मियों ने उसे मार गिराया.

सुरक्षा के लिहाज से संसद को बंद कर दिया गया है. पुलिस ने पास के वेस्टमिनिस्टर अंडरग्राउंड रेलवे स्टेशन को बंद भी करा दिया है. सदन के नेता डेविड लिडिग्टन ने कहा कि एक पुलिसकर्मी को चाकू मारने वाले हमलावर को पुलिस ने गोली मार दी. ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे के प्रवक्ता ने बताया है कि प्रधानमंत्री पूरी तरह सुरक्षित हैं. हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि घटना के वक्त प्रधानमंत्री कहां थीं.

‘बीबीसी’ के अनुसार, उस वक्त संसद की कार्यवाही चल रही थी, जो हमले के बाद स्थगित कर दी गई. नेताओं, पत्रकारों व आगंतुकों को लगभग पांच घंटे तक संसद भवन से बाहर नहीं निकलने दिया गया. ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने हमले के बाद आपात बैठक बुलाई.

मेट्रो पुलिस सहायक आयुक्त व लंदन के शीर्ष आतंकवाद रोधी अधिकारी मार्क रॉवले ने हमले में चाकू से घायल होकर जान गंवाने वाले अधिकारी का नाम कीथ पामर (48) बताया और कहा कि उन्होंने 15 साल तक पुलिस को सेवा दी.

पुलिस ने हालांकि हमलावर की पहचान का खुलासा नहीं किया है, लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि उसे हमलावर के बारे में जानकारी है और वह उसके सहयोगियों का पता लगाने की कोशिश कर रही है. उसका संबंध इस्लामिक कट्टरता से हो सकता है