एनटीसीए कर रही है रामनगर में हुए बाघ की मौत की जांच

नैनीताल जिले में बीते दिनों तराई पश्चिमी वन प्रभाग रामनगर के अंतर्गत बैल पड़ाव रेंज में हुई बाघ की मौत की जांच एनटीसीए ने शुरू दी गई है.

राष्ट्रीय बाघ सुरक्षा प्राधिकरण दिल्ली (एनटीसीए) के डीआईजी निशांत वर्मा टीम के साथ सोमवार रात रामनगर पहुंचे. मालूम हो कि 16 मार्च को बैल पड़ाव के छोई क्षेत्र में बाघ ने भगवती और लखपत को मार डाला था. इसके बाद बाघ को पकड़ने के लिए रेस्क्यू अभियान चलाया गया था.

काफी कोशिश के बाद पकड़ में आए बाघ की मौत हो गई थी. इसके बाद बाघ को जेसीबी के पंजे से दबाने का वीडियो वायरल हुआ. इसमें बाघ की मौत पर सवाल उठने लगे थे. मंगलवार को वन विश्राम गृह में एनटीसीए के अधिकारीयों ने पहले डीएफओ कहकशां नसीम से पुरे घटनाक्रम की जानकारी ली.

डीएफओ ने मौके के फोटो और वीडियो भी दिखाए. इसके बाद वनाधिकारियों के साथ छोई पहुंचकर घटना स्थल का निरीक्षण किया. इस दौरान एनटीसीए के अधिकारियों ने क्षेत्र के वन कर्मियों और गांव के लोगों से भी जानकारी ली