‘अशुभ’ मुख्यमंत्री आवास में रहेंगे त्रिवेंद्र रावत, अब तक सभी मुख्यमंत्री यहां रहने से कन्नी काटते रहे

उत्तराखंड के सभी पूर्व मुख्यमंत्री जहां रहने से अब तक डरते रहे हैं, नए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र स‌िंह रावत अब वहीं रहने जाएंगे. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को मिथकों का डर नहीं है, वह न सिर्फ सीएम के लिए 27 करोड़ की लागत से बने बंगले में जा सकते हैं, बल्कि उनके राजतिलक के बाद पांच साल से विरान पड़ा सचिवालय कक्ष भी अब गुलजार हो सकता है.

मुख्यमंत्री के परिजनों ने कहा कि मुख्यमंत्री नए बंगले में शिफ्ट हो सकते हैं. राज्य में पिछली सरकारों में बने मुख्यमंत्री मिथकों से खौफ खाते रहे हैं, न्यू कैंट रोड स्थित 27 करोड़ की लागत से बने बंगले का वर्षों से खाली रहना इसकी बड़ी वजह है. इस बंगले को लेकर यह मिथक बना हुआ है कि जो भी मुख्यमंत्री इस बंगले में गया वह अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाया.

पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार में तो मुख्यमंत्री के करोड़ों की लागत से बने इस बंगले के साथ ही सचिवालय स्थित मुख्यमंत्री कार्यालय का एक कक्ष भी मिथको से जुड़ा रहा है.

420 नंबर के इस कमरे को अशुभ मानते हुए इस कक्ष के बाहर न तो नंबर लिखा हुआ है न ही इस कक्ष में कोई अधिकारी बैठा. यही वजह रही कि यह कक्ष विरान रहा, लेकिन राज्य के नए मुख्यमंत्री को लेकर कहा जा रहा है कि वह मिथकों को नहीं मानते. उनके परिजनों के मुताबिक उनके सीएम बनने के बाद न सिर्फ सचिवालय स्थित खाली पड़ा यह कक्ष खुल सकता है बल्कि वीरान पड़ा सीएम का बंगला भी गुलजार हो सकता है.